Saturday, Jul 11, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 10

Last Updated: Fri Jul 10 2020 09:39 PM

corona virus

Total Cases

818,647

Recovered

513,503

Deaths

22,122

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA238,461
  • TAMIL NADU114,978
  • NEW DELHI109,140
  • GUJARAT40,155
  • UTTAR PRADESH33,700
  • TELANGANA25,733
  • ANDHRA PRADESH25,422
  • KARNATAKA25,317
  • RAJASTHAN23,814
  • WEST BENGAL22,987
  • HARYANA19,736
  • MADHYA PRADESH15,284
  • BIHAR14,330
  • ASSAM11,737
  • ODISHA10,624
  • JAMMU & KASHMIR8,675
  • PUNJAB6,491
  • KERALA5,623
  • CHHATTISGARH3,305
  • UTTARAKHAND3,161
  • JHARKHAND2,854
  • GOA1,813
  • TRIPURA1,580
  • MANIPUR1,390
  • HIMACHAL PRADESH1,077
  • PUDUCHERRY1,011
  • LADAKH1,005
  • NAGALAND625
  • CHANDIGARH490
  • DADRA AND NAGAR HAVELI373
  • ARUNACHAL PRADESH270
  • DAMAN AND DIU207
  • MIZORAM197
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS141
  • SIKKIM125
  • MEGHALAYA88
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
hindi-patrakarita-diwas-first-hindi-newspaper-by-pandit-jugal-kishore-shukla-djsgnt

हिंदी पत्रकारिता दिवस: आज ही के दिन प्रकाशित हुआ था पहला हिन्दी समाचार पत्र

  • Updated on 5/30/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। 30 मई को हिंदी पत्रकारिका दिवस के लिए बहुत ही अहम दिन माना जाता है। आज ही के दिन हिंदी भाषा में पहला समाचार पत्र उदन्त मार्तण्ड का प्रकाशन हुआ था। इसका प्रकाशन मई, 1826 ई. में कलकत्ता से एक साप्ताहिक पत्र के रूप में शुरू हुआ था। कलकता के कोलू टोला नामक मोहल्ले की 37 नंबर आमड़तल्ला गली से जुगल किशोर जी ने सन् 1826 ई. में 'उदन्त मार्तण्ड' हिंदी साप्ताहिक पत्र निकाला।

लद्दाख सीमा पर चीन के तेवर को लेकर प्रशांत भूषण ने RSS चीफ भागवत पर किया कटाक्ष

अनेक भाषा में प्रकाशित होता था समाचार पत्र
उस दौरान अंग्रेजी, फारसी और बांग्ला में तो अनेक पत्र निकल रहे थे, लेकिन हिंदी में एक भी पत्र नहीं निकलता था। इसलिए 'उदन्त मार्तण्ड' का प्रकाशन शुरू किया गया। जुगल किशोर जी मूल रूप से कानपुर के रहने वाले थे। यह पत्र हर मंगलवार को निकलता था। 'उदन्त मार्तण्ड' के आरंभ के समय किसी ने कल्पना भी नहीं की थी कि हिन्दी पत्रकारिता आगे चल कर इतना बड़ा आकर ले लेगी और इतनी महत्वपूर्ण हो जाएगी।  युगल किशोर शुक्ल ने काफी समय तक 'उदन्त मार्तण्ड' के माध्यम से पत्रकारिता की। 

जस्टिस काटजू बोले- जनता त्राहि-त्राहि चिल्ला रही है, मगर इस सरकार पर जूं नहीं रेंग रही

पैसे के अभाव में बंद करना पड़ा प्रकाशन
हालांकि बाद में इस समाचार पत्र पैसे के आभाव में बंद करना पड़ा, तब इसके कुल ७९ अंक ही प्रकाशित हो पाए थे । पर बाद में परिस्थितियां बदलीं और  समय समय पर निकलने वाले  हिन्दी अखबार समाज में अपना स्थान बना लिया। और समाज और राजनीति की दिशा और दशा को  बदलने और सुधारने में इनकी महत्वपूर्ण  बन गई।  'उदन्त मार्तण्ड' से शुरू हुआ हिन्दी पत्रकारिता का ये सफर आज बरकरार है और हिंदी पत्रकारिता दिनों दिन  समृद्धि की ओर कदम बढ़ा रहा है।  

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें

comments

.
.
.
.
.