Friday, Jan 21, 2022
-->
hindu mahasabha swami chakrapani claims cow blood found in vaccine pragnt

हिंदू महासभा स्वामी चक्रपाणि का दावा- खतरे में सनातन धर्म, वैक्सीन में मिला गाय का खून

  • Updated on 12/28/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। एक तरफ जहां कोरोना वायरस (Coronavirus) से परेशान होकर वैक्सीन की राह देख रहे हैं। ऐसे में हिंदू महासभा के स्वामी चक्रपाणि (Swami Chakrapani) ने एक ऐसा बयान दिया है जिसने हर किसी को हैरान कर दिया है। स्वामी चक्रपाणि ने ट्वीट करते हुए दावा किया कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) को दिया ज्ञापन दिया गया। कोरोना के वैक्सीन या दवा भारत में लाने से पहले सरकार या अंतरराष्ट्रीय कंपनियां देश को स्पष्ट करें की वैक्सीन या दवा में गाय का खून अथवा कोई भी ऐसे पदार्थ ना हो जो हिंदू सनातन धर्म की भावना को आहत करता है।

वुहान में कोरोना वायरस पर पत्रकारिता करने वाली चीनी महिला पत्रकार को जेल में डाला

धर्म पर आ गई अब बात
स्वामी चक्रपाणी ने ज्ञापन में कहा है कि जब तक यह साफ ना हो जाए कि यह वैक्सीन किसी तरह से बनाई जा रही है तब तक इसका इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। मेरा भी मानना है कि कोरोना को जल्द खत्म किया जाना चाहिए लेकिन इसके चलते हम अपने धर्म को नष्ट्र नहीं कर सकते हैं। जब भी कोई भी दवाई या उत्पाद बनाया जाता है तो उसके बारे में सारी जानकारी दी जाती है कि उस उत्पाद को कैसे बनाया गया। ऐसे में वैक्सीन को लेकर भी हमारा यही मानना है कि इसकी भी पूरी जानकारी हमे मिलनी चाहिए। हमे जानकारी मिली है कि अमेरिका की जो वैक्सीन तैयार हुई है, उसमें गाय के खून का इस्तेमाल किया गया है।

नए साल की शुरुआत में ब्रिटेन में शुरू हो सकता है ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन का इमरजेंसी इस्तेमाल

गाय को हम मानते है माता
ये बात किसी से भी नहीं छिपी है कि हिंदू धर्म में गाय को कितना पूजा जाता है। स्वामी चक्रपाणी ने कहा कि हम गाय को माता मानते हैं। ऐसे में अगर गाय का खून हमारे शरीर में जाएगा तो उससे हमारे धर्म को नुकसान पहुंचेगा। 

देश में कोरोना वैक्सीन पहुंचाने की आज से तैयारी शुरू, इन राज्यों में दो दिन तक चलेगा ड्राई रन

रची जा रही साजिश
सनातन धर्म खतरे में सकता है। हमारे धर्म को खत्म करने के लिए सालों से साजिश रची जा रही है। जिसकी वजह से हम इस वैक्सीन को लेकर सवाल उठा रहे हैं। इसलिए हम चाहते हैं कि जब सारे संशय दूर हो जाएंगे तब ही वैक्सीन लगाई जाए।

कोरोना वायरस की रिकवरी में मदद करेंगे ये फूड, इन चीजों को करें खाने में शामिल

जान चली जाए पर धर्म नहीं
स्वामी चक्रपाणि ने आगे कहा कि वैक्सीन को लेकर हमे पहले विश्वास करों फिर इस्तेमाल करो की नीति पर काम करना चाहिए। पहले जनता को विश्वास  दिलाना चाहिए  कि इसमें गाय का खून नहीं है उसके बाद ही इसे लगाना जाए।इतना ही नहीं स्वामी चक्रपाणि ने कहा कि भले ही जान चली जाए, लेकिन धर्म नष्ट नहीं होना चाहिए।

उत्तराखंड CM त्रिवेंद्र रावत की बिगड़ी तबीयत, दिल्ली एम्स में होंगे शिफ्ट

देश में कोरोना का कहर
देशभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर लगातार जारी है। भारत (India) में कोरोना से 1,02,08,725 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 1,47,940 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि, राहत की बात ये है कि 97,81,945 इस वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। सक्रिय मामलों (Active Cases) की कुल संख्या 2,76,028 है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.