Sunday, Jan 24, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 23

Last Updated: Sat Jan 23 2021 08:55 PM

corona virus

Total Cases

10,639,684

Recovered

10,300,838

Deaths

153,184

  • INDIA10,640,546
  • MAHARASTRA2,003,657
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA934,576
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU833,585
  • NEW DELHI633,542
  • UTTAR PRADESH598,126
  • WEST BENGAL567,304
  • ODISHA334,020
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN316,282
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH295,949
  • TELANGANA293,056
  • HARYANA266,939
  • BIHAR258,739
  • GUJARAT258,264
  • MADHYA PRADESH253,114
  • ASSAM216,957
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB171,522
  • JAMMU & KASHMIR123,852
  • UTTARAKHAND95,464
  • HIMACHAL PRADESH57,162
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM5,338
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,983
  • MIZORAM4,322
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,374
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
historian irfan habib alleged rss adopting national symbols as it not have leader of its own

इरफान हबीब ने बताया- #RSS क्यों कर रही है राष्ट्रीय प्रतीकों का इस्तेमाल

  • Updated on 11/2/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। इतिहासकार और लेखक एस इरफान हबीब ने शनिवार को आरोप लगाया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) सरदार पटेल, भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस जैसे राष्ट्रीय प्रतीकों को अपना रहा है क्योंकि उसके पास अपना कोई ऐसा नेता नहीं है जिससे भारत के लोग जुड़ाव महसूस कर सकें। हालांकि आरएसएस विचारकों की ओर से कहा गया कि कांग्रेस शासन में इन महान नेताओं की अनदेखी की गयी। 

कांग्रेस ने येदियुरप्पा पर MLAs की खरीद-फरोख्त का लगाया आरोप, शाह से मांगा जवान

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में साहित्य आजतक कार्यक्रम के तहत आयोजित सत्र ‘‘ सावरकर और हिन्दुत्व’’ में बोलते हुए हबीब ने कहा, ‘‘ चाहे सरदार पटेल, सुभाष चंद्र बोस हो या भगत सिंह इन प्रतीकों को सघं शुरू से स्वीकार कर रहा है। मुझे एक नाम बताइये जो उनके अपने थे और जिसके पीछे वे खड़े हुए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उनके पास कोई नहीं है जिसको लेकर वे जनता के बीच जाए, ऐसा कोई नहीं जिनसे भारत के लोग जुड़ सकें।’’ 

सोनिया बोलीं- #RCIP से अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने की तैयारी में है मोदी सरकार

आरएसएस के विचारक देश रत्न निगम ने प्रतिवाद करते हुए कांग्रेस की नेतृत्व वाली सरकारों पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि उन लोगों ने इन हस्तियों को नजरअंदाज किया तथा संघ ने यह सुनिश्चित किया कि इन दिग्गजों को भुलाया नहीं जाए। निगम ने कहा, ‘‘जिसे आप अपनाना कह रहे हें मैं उसे समुचित महत्व देना कहूंगा। कांग्रेस ने गत 70 साल में पटेल या सावरकर को वह सम्मान नहीं दिया जिसके वे हकदार थे। आरएसएस ऐसा इसलिए कर रहा है क्योंकि वे राष्ट्रीय प्रतीक हैं और उन्हें भुलाया नहीं जाना चाहिए। 

अमित शाह के बेटे जय शाह की आय को लेकर कांग्रेस ने बोला बड़ा हमला

हाल में भाजपा की महाराष्ट्र प्रदेश इकाई ने अपने चुनाव घोषणा पत्र में हिन्दू राष्ट्रवादी विनायक दामोदर सावरकर को भारत रत्न देने की मांग की थी जिसपर विपक्ष ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। निगम ने भी इस मांग का समर्थन करते हुए कहा कि सावरकर इस सम्मान के हकदार हैं। निगम ने कहा, ‘‘ संघ ने कभी भी किसी के नाम की पुरस्कार के लिए पैरवी नहीं। हमारे अपने नेताओं जैसे गोलवलकर और हेडगवार ने कभी सम्मान नहीं चाहा। बदले में कुछ पाना, यह हमारी विचारधारा नहीं है।’’ 

सम-विषम योजना के दौरान दिल्ली सरकार के कार्यालयों के समय में बदलाव

सावरकर के बारे में हाल में ही आयी एक पुस्तक के लेखक एवं पत्रकार वैभव पुरंदरे ने कहा कि भले ही केशव बलिराम हेडगेवार सावरकर के हिन्दुत्व संबंधी विचारों से प्रेरित था किंतु सावरकर वैज्ञानिक विचार रखते थे तथा वह इतिहास के आरएसएस संस्करण से सहमत नहीं थे। पुरंदरे ने कहा, ‘‘सावरकर की हिन्दुत्व संबंधी पुस्तकें आरएसएस के पवित्र ग्रन्थ हैं। हिन्दुत्व के बारे में उनकी धारणा कुछ स्तरों पर आरएसएस से मेल खाती है किंतु उन्होंने ऐसी बातें नहीं कहीं हैं कि महाभारत में परमाणु अस्त्र थे। वह वैज्ञानिक विचार रखते थे।’’ 

सिसोदिया बोले- जावड़ेकर ने प्रदूषण पर 3 बैठकें स्थगित कीं

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.