Wednesday, Jun 26, 2019

हाथों और पैरों में पड़ने वाले गढ्ढो से मिलेगा छुटकारा, इन घरेलू उपायों का शुरू कर दें इस्तेमाल

  • Updated on 6/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अगर आपके भी हाथों और पैरों में गढ्ढो की समस्या ज्यादा बढ़ गई है तो इसका मुख्य कारण हैं ज्यादा स्ट्रेस और काम। आमतौर पर लोगों को हाथों और पैरों में पड़ने वाले गढ्ढो से जुड़ी काफी समस्याएं होती है जिनसे लोगों परेशान हो जाते हैं। वैसे तो गढ्ढो का पड़ना काफी आम बात हो गया है।

दरअसल, ये गढ्ढे उम्र बढ़ने और हाथों से ज्यादा मेहनत के कारण त्वचा मोटी हो जाती है, इन्हें ही कारण ये समस्या उत्पन्न हो जाती है। कई बार ये समस्या ज्यादा बड़ी हो जाती है जिसके कारण आपके खुबसुरत हाथ भी इसके सामने फीके लगने लगते हैं। और कुछ लोग मजबूरन इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए डॉक्टर और दवाईयों का सहारा लेने लगते हैं जो आगे आगे जाकर आपकी समस्या में राहत तो दे देता है।

लेकिन इस बात कि गैरंटी नहीं ले पाता कि ये आने वाले समय में ठीक हो पाएगा भी या नहीं। इसलिए अब इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए हम आपके लिए लेकर आए हैं एक रामबाण इलाज जिससे आप चुटकियों में इस समस्या को ठीक कर सकते हैं और हमेशा-हमेशा के लिए हाथों और पैरों में पड़ने वाले गढ्ढो से छुटकारा पा सकते हैं। तो चलिए जानते हैं वो अनोखे घरेलू नुस्खें-

नींबू का प्रयोग

हाथों और पैरों में गढ्ढो के लिए आप नींबू का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि इसमें पाए जाने वाले सिटरिक एसिड आपके गढ्ढो की त्वचा को कम करने में मदद करते हैं। इसका इस्तेमाल करने के लिए 2-3 चम्मच नींबू का जूस और 2 चम्मच ऑलिव ऑयल (जैतून का तेल), बेकिंग सोडा को मिला लें इसके बाद जालीदार पट्टी या मेडिकल टेप पेस्ट को चिपका दें।

ब्रेड और सिरके का प्रयोग

घट्टों को हटाने का एक दूसरा आसान उपाय है, जिसमें ब्रेड और सिरके की मदद से आप घट्टों को पूरी तरह साफ कर सकते हैं। इससे आपके हाथ भी मुलायम हो जाएंगे। इसका इस्तेमाल करने के लिए 1 कप एप्पल साइडर विनेगर (सेब का सिरका) या कोई भी सिरका लें, फिर एक स्लाइस ब्रेड लें और दोनों का मिषरण बनालें इसके बाद जालीदार पट्टी या कपड़ा मेडिकल टेप की मदद से लेप को चिपका दें।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.