Saturday, Nov 16, 2019
home-remedies-to-get-rid-of-from-the-problem-of-cavity

दांतों में सढ़न का कारण कहीं बन तो नहीं रहा आपके लिए परेशानी, अगर हां तो ये हैं कुछ असरदार इलाज

  • Updated on 6/21/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कैविटी (Cavity) यानि की दांतो में सढ़न की समस्या। ये कोई बीमारी तो नहीं है लेकिन किसी समस्या से कम भी नहीं है। दांतो में सढ़न की समस्या बहुत आम बात है और यह किसी परेशानी से कम भी नहीं हैं, क्योंकि इसकी वजह से आगे जाकर दांतो में कई तरह की दिक्कतें बढ़ जाती हैं। जैसे, दांतों का दर्द, खोख्लापन, मुंह का सुजना आदि।

यूं, तो दांतो में कीड़े के लगने की कोई खास वजह तो नहीं है लेकिन एक शोध (Research) के मुताबिक ऐसा कहा गया है कि, आमतौर पर कीड़े तब लगते हैं जब आपके मुंह में सुक्ष्म जीवांडू (बैक्टीरिया) (Bacteria) की मात्रा ज्यादा बढ़ गई हों या फिर आपका मुंह साफ ना हो और यही कारण होता है कि मुंह में जमी गंदगी से आपके दांतों में कीड़े लगने के संकेत ज्यादा बढ़ जाते हैं।

इसके अलावा अगर दांतों में कीड़ा लगा हुआ है तो इसका मुख्य कारण चीनी या फिर carbohydrates (मैदे या मुंगफली आदि) हो सकता है। क्योंकि किसी भी मिठी चीज को देखकर कीड़े ज्यादा आर्कषित होते हैं जो आगे जाकर आपके दांतों को खोख्ला भी बना सकते हैं।

#International Yoga Day: ये है भारत की पहली ऐसी लड़की जिसने कम उम्र में बनाया योगा का वर्ल्ड रिकॉर्ड

इन परेशानियों से बचने का एकमात्र उपाये हैं जिससे आपको दांतो से होने वाली तक्लीफों से तुरंत आराम मिल सकता है। वैसे तो दांतों में लगी कैवेटी के लिए किसी डेन्टिस्ट (Dentist) को दिखना एक अच्छा उपाये हैं लेकिन आपातकालीन (Emergency) के समय में अगर डेन्टिस्ट के अलावा अगर कोई और रास्ता न दिख रहा हो तो आप घरेलू नुस्खों के जरिए इस समस्या का झट से इलाज कर सकते हैं। तो चलिए देखते हैं आखिर कौन-से हैं वो घरेलू नुस्खें (Home Remedies)।

लौंग का तेल 

लौंग (Clove Oil) का तेल एक बहुत ही अच्छा उपाये हैं अपने दांतों की सढ़न को रोकने का इसके अलावा अगर दांतों में सढ़न के चलते दर्द ज्यादा बढ़ जाए तो उस दर्द को भी कम किया जा सकता है या उस दर्द से आराम दिलाया जा सकता है। ऐसा कहा जाता है कि, लौंग में एंटी-इंफ्लेमेंटरी, एनाल्‍जेसिक और एंटी-बैक्‍ट‍ीरियल गुणों होते हैं जो आपको इस परेशानी से छुटकारा दिला सकते हैं। इसके लिए 1/4 चम्‍मच तिल के तेल में 2 से 3 बूंदें लौंग के तेल की मिलाकर लें। इस मिश्रण को रात को सोने से पहले कॉटन बॉल में लेकर प्रभावित दांत में लगाए।   

चमकी का खौफ: जनता पलायन को मजबूर, नीतीश- सुशील पर लापरवाही का केस

नमक 

नमक (Salt) में पाए जाने वाले एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुण आपके दांतों में लगे कैविटी के लिए काफी कारगर हैं क्योंकि यह दांतों में दर्द और सूजन को कम करने, किसी भी प्रकार के संक्रमण और मुंह में बैक्‍टीरिया की तादाद को रोकने में मदद करता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए आधा चम्‍मच नमक, थोड़ा सा सरसों का तेल और नींबू का रस मिलाकर पेस्‍ट बना लें। इस पेस्‍ट से कुछ मिनटों तक मसूड़ों पर मसाज करें। सुक्ष्म जीवांडू (बैक्‍टीरिया) को मारने के लिए इस उपाय को कुछ दिन तक दिन में दो बार करें।

Bihar: 'चमकी' से पीड़ित बच्चों पर अब मंडरा रहा विकलांगता का खतरा, पढ़े विशेष खबर

नीम

नीम (Neem) ना तो सिर्फ शरीर बल्कि दांतो और अन्य रोगों के लिए काफी लाभकारी दवाई है। इसमें पाए जाने वाले एंटी-बैक्‍टीरियल गुण बैक्‍ट‍ीरिया के कारण होने वाली कैविटी और कई बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए दांतों और मसूड़ों पर नीम के पत्तों के रस रगड़ें, कुछ मिनट के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें। इस उपाय को दिन में एक या दो बार करें। इसके अलावा आप नीम की स्टिक का भी इस्‍तेमाल दांतों में ब्रश की तरह भी कर सकते हैं।

लहसुन

हर घर में मिलने वाली लहसुन (Garlic) से आप खाने का जायेका तो ले सकते हैं लेकिन ये कई रोगों के लिए एक गुणकारी दवा का काम भी करता है। दरअसल, लहसुन में पाए जाने वाले एंटी बैक्‍टीरियल के साथ-साथ एंटीबायोटिग गुणों से समृद्ध होने के कारण, लहसुन दांतों के टूटने और कैविटी की समस्‍या को दूर करने में काफी मदद करता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए 3 से 4 लहसुन की कली को कुचलकर और 1/4 चम्‍मच सेंधा नमक मिलाकर पेस्ट बना लें। फिर इसे संक्रमित दांत पर लगाकर 10 के लिए छोड़ दें। कैविटी को कम करने के लिए इस उपाय को दिन में दो बार करें।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.