Monday, May 23, 2022
-->
hospital-selected-to-treat-omicron-infected

ओमिक्रॉन संक्रमितों के इलाज के लिए अस्पताल चयनित, विदेश से आए एक हजार यात्रियों की कोविड जांच में सभ

  • Updated on 11/30/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर अब शासन स्तर से भी गाइड लाइन जारी कर दी गई है। इसके तहत एयरपोर्ट वाले प्रत्येक जिले में आइसोलेशन फैसिलिटी और संक्रमितों के उपचार के लिए अस्पताल निर्धारित करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा शासन स्तर से स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध करवाई गई सूची में शामिल सभी लोगों की सात दिनों तक कोविड कंट्रोल रूम द्वारा निगरानी की जाएगी।

सात दिनों के भीतर उनका कोविड टेस्ट भी करवाया जाएगा। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. आरके गुप्ता ने बताया कि शासन की गाइड लाइन के अनुसार जिले में संतोष अस्पताल को विदेश यात्रा से आने वाले मरीजों को भर्ती करने के लिए चिन्हित किया गया है। इसके अलावा पेड फैसिलिटी के तौर पर यशोदा अस्पताल को चिन्हित किया गया है। विदेश यात्रा से लौटने वाले जो लोग कोरोना संक्रमित पाए जाएंगे उन्हें इन दोनों अस्पतालों में  भर्ती किया जाएगा। इसके अलावा विदेश से लौटने वाले सभी लोगों की जांच की जा रही है। शासन से मिली सूची में शामिल लोगों में अब तक 1000 लोगों की जांच की जा चुकी, कोई संक्रमित नहीं मिला है।

भरवाया जाएगा सेल्फ  डिक्लिरेशन फार्म 
जिला सर्विलांस अधिकारी ने बताया कि हिंडन एयरपोर्ट पर जो भी यात्री उतरेंगे उनसे सेल्फ डिक्लिरेशन फार्म भरवाया जाएगा। जिसमें यात्री को अपनी विदेश यात्रा संबंधी पूर्ण जानकारी देनी होगी। जो लोग ओमीक्रोन प्रभावित देशों से आए होंगे उनकी एयपोर्ट पर ही जांच की जाएगी। इसके अलावा अन्य यात्रियों में 5  प्रतिशत की रेंडम जांच की जाएगी। इसके अलावा दक्षिण व पूर्वी राज्यों से रेलवे स्टेशन पहुंचने वालों की भी कोविड जांच की जा रही है। 
 

टैक्सी चालकों से ली जाएगी यात्रियों की जानकारी 
जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. आरके गुप्ता ने बताया कि विदेश से यात्रा कर जिले में पहुंचने वाले यात्रियों की सूची शासन स्तर से उपलब्ध कराई जा रही है। इसके अलावा टैक्सी चालकों से भी यात्रियों की जानकारी ली जाएगी। विदेश से यात्रा कर अपने-अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए अधिकांश लोग टैक्सी हायर करते है। इससे जिले में कितने लोग बाहरी यात्रा कर पहुंचे है, इसकी जानकारी के लिए उबर व ओला टैक्सी चालकों से जानकारी ली जाएगी। इससे उन लोगों का भी सही पता मिलने में मदद हो सकेगी, जिनकी सूची शासन से भेजी गई है लेकिन कई पते मैच नहीं हो पाते है। जल्द ही टैक्सी एजेंसी के डिस्ट्रीक हैड संग बैठक कर प्रतिदिन की जानकारी देने को कहा जाएगा। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.