Thursday, Aug 18, 2022
-->
how-ghaziabad-sahaj-chadha-is-proving-his-talent-on-the-cricket-grounds-of-england

इंग्लैंड के क्रिकेट मैदानों पर कैसे अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे गाजियाबाद सहज चड्ढा, जाने पूरी खबर

  • Updated on 6/28/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। खेलों में गाजियाबाद के होनहार युवा लगातार अपना नाम रोशन कर रहे हैं। विभिन्न खेलों में उन्होंने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। गाजियाबाद ने खासतौर पर क्रिकेट में मनोज प्रभाकर व सुरेश रैना जैसे बड़े नाम दिए हैं। इसी राह पर चलते हुए गाजियाबाद के सहज चड्ढा भी अपनी प्रतिभा से लगातार दूसरों को हैरत में डाल रहे हैं। वह फिलहाल देश से दूर इंग्लैंड में हैं, जहां वह हेमरो फाउंडेशन एसेक्स काउंटी क्रिकेट लीग और नेशनल क्रिकेट लीग में अपनी बल्लेबाजी के दम पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे हैं। 

इंग्लैंड में बज रहा गाजियाबाद के सहज के नाम का डंका 
इंग्लैंड में इस वक्त दो लोकल क्रिकेट लीग खेली जा रही हैं। जिसमें हेमरो फाउंडेशन एसेक्स काउंटी क्रिकेट लीग और नेशनल क्रिकेट लीग शामिल हैं। सहज चड्ढा इन दोनों लीग में अलग-अलग टीमों की हिस्सा हैं। एसेक्स काउंटी लीग में वह बार्किंग क्रिकेट क्लब के बल्लेबाज हैं, तो नेशनल क्रिकेट लीग में वह एशियाई खिलाडिय़ों के चक दे क्रिकेट क्लब का हिस्सा हैं। सहज ने दोनों लीग में अब तक 15 मैच खेले हैं। जिनकी 14 पारियों में 1075 रन बना चुके हैं। इसमें 8 मैन ऑफ द मैच शामिल हैं। बार्किंग क्रिकेट क्लब के लिए खेलते हुए उन्होंने 8 मैच में 4 सौ रन बनाए हैं। जिसमें 4 अर्धशतक व 1 शतक शामिल हैं। वहीं चक दे क्रिकेट क्लब की ओर से उन्होंने 7 मैच में 675 रन बनाए हैं। जिसमें 5 अर्धशतक व 2 शतक शामिल हैं। 

टीम में ऑलराऊंडर की भूमिका निभा रहे हैं सहज 
जिन दोनों टीमों के लिए सहज खेल रहे हैं। वहां वह नंबर तीन पर बल्लेबाजी के लिए उतरते हैं। इसके अलावा वह विकेटकीपर और गेंदबाज की भी भूमिका निभा रहे हैं। अब तक वह बल्लेबाजी के अलावा गेंदबाजी में भी अपना सिक्का जमाते हुए 9 विकेट झटकने के अलावा 14 कैच भी पकड़ चुके हैं। नेशनल क्रिकेट लीग में उनका नाम और फोटो लीग की आधिकारिक वेबसाइट पर सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाले खिलाड़ी के तौर पर भी दर्ज किया गया है। 

आईपीएल के दरवाजे से कांउटी के गलियारे तक पहुंचे हैं सहज 
1994 को दिल्ली में पैदा हुए सहज चड्ढा 2005 से गाजियाबाद में रह रहे हैं। जहां उन्होंने इंदिरापुरम के कैंब्रिज स्कूल से पढाई शुरू की। धीरे-धीरे उनका रूझान क्रिकेट की तरफ बढता रहा। वाईएमसीए में राकेश शुक्ला से उन्होंने 5 साल क्रिकेट की बारीकियां सीखीं। जहां 2015 में वह पहली बार आईपीएल की दहलीज तक पहुंचे। 2015 में सहज ने किंग्स इलेवन पंजाब के ट्रैनिंग कैंप में हिस्सा लिया। इसके अलावा 2016-17 में वह दिल्ली डेयर डेविल्स के भी ट्रैनिंग कैंप में जाने का मौका मिला। लेकिन कभी इन दोनों में टीम की तरफ से बल्ला पकडऩे का मौका नहीं मिला। लेकिन उनकी प्रतिभा को दक्षिण अफ्रीका के क्रिसेंट क्रिकेट क्लब ने पहचाना और उन्हें टीम का हिस्सा बनने का मौका मिला। जहां उन्होंने लेनशिया प्रीमियर लीग में 2016-17 के सीजन में 15 मैच खेलते हुए 1190 रन बनाए। यहां वह इशांत शर्मा, कसीगो रबाडा जैसे खिलाडिय़ों के साथ खेले। दक्षिण अफ्रीका में क्रिकेट क्लब के लिए खेलते हुए काउंटी क्रिकेट के पारखियों की नजर भी सहज पर पड़ी और फिर 2019 में वह एसेक्स क्रिकेट काउंटी में 25 सौ 52 रन बनाने के साथ ही 30 विकेट भी झटके। बीती 2021 में भी वह मिडिलसेक्स काउंटी में एनसन क्लब के लिए खेले जहां उन्होंने 850 रन बनाकर प्रतियोगिता में पहला स्थान हासिल किया। 

अपनी एकेडमी भी चलाते हैं सहज
अपनी प्रतिभा दिखाने के साथ-साथ सहज दिल्ली ब्लूज क्रिकेट एकेडमी भी चलाते हैं। जिसमें वह युवा क्रिकेटरों को क्रिकेट की बारीकियों से रूबरू कराते हैं। लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि उन्होंने खुद क्रिकेट का अभ्यास करना छोड़ दिया है। वह राकेश शर्मा से बल्लेबाजी के गुर तो राजस्थान रणजी कोच के नवेंदू त्यागी से गेंदबाजी के गुर सीखते हैं। वह अपनी सफलता के श्रेय कोच राकेश शर्मा के अलावा अन्य कोच गुरूचरण सिंह व मेंटोर सौरभ डबराल को देते हैं। 

2022 में और धमाल करने की तैयारी
सहज इस साल किक्रेट में और धमाल करने की तैयारी में है। फिलहाल इंग्लैंड में चल रही क्रिकेट प्रतियोगिताओं के समापन के बाद वह दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना होंगे। जहां वह अक्टूबर में होने वाली एक अन्य लीग का हिस्सा बनेंगे। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.