Sunday, Oct 17, 2021
-->
human-trial-of-corona-vaccine-begins-at-nims-hyderabad-prsgnt

निम्स में शुरू हुआ भारत की पहली कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ का ह्यूमन ट्रायल

  • Updated on 7/8/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत में बनने वाली पहली कोरोना वैक्सीन के लिए पहला ह्यूमन ट्रायल आज से शुरू हो गया है। हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने साथ मिल कर पहली भारतीय कोरोना वैक्सीन तैयार की है।

इस वैक्सीन का नाम कोवैक्सीन रखा गया है और इसका मंगलवार से ही ह्यूमन ट्रायल शुरू हो चुका है। ये ह्यूमन ट्रायल हैदराबाद के निम्स में किया जा रहा है। इसके अलावा आईसीएमआर ने दूसरे संस्थानों को भी ट्रायल के लिए पत्र लिखा है।

15 अगस्त तक COVAXIN आने के नहीं है आसार, विशेषज्ञों और डॉक्टर्स ने बताया कहां फंसा पेंच

वहीँ, निम्स के डायरेक्ट डॉक्टर मनोहर ने कहा है कि हम वैक्सीन के ट्रायल के लिए स्वस्थ व्यक्तियों का चयन करेंगे। और उनके ब्लड का सैंपल लेंगे। इसके बाद इनके सैंपल दिल्ली में चुने गई लैब्स को भेजे जाएंगे। अहर उनकी तरफ से पॉजिटिव परिणाम मिले तो इसे ह्यूमन ट्रायल के लिए आगे बढ़ाया जाएगा।

दिल्ली में इम्यूनिटी बढ़ाने वाली दवाओं की डिमांड बढ़ी, बिक्री में 7 गुना ज्यादा इजाफा

पहले दिन इतनों का हुआ ट्रायल
बताया जा रहा है कि ह्यूमन ट्रायल के लिए 7 जुलाई को 125 लोगों को कोवैक्सीन का दो डोज दिए गए। अगर इसमें सफलता मिली तो आगे 375 लोगों को ये डोज दी जाएगी और फिर 3 अगस्त तक इसके पहले फेज के परिणाम सामने आ जाएंगे।

कोरोना संक्रमण के 3 नए लक्षण आए सामने, सामान्य समझ कर इन्हें न करें अनदेखा

कई भारतीय कंपनियां हैं रेस में
बताते चले कि कोरोना की वैक्सीन बनाने में कई भारतीय कंपनी लाइन में लगी हुई हैं। इनमें ज़ेडियस कैडिला (Zydus Cadila), पैंसिया बायोटेक (Panacea Biotech) और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) का नाम शामिल हैं। इनमें से ज़ेडियस और सीरम ने तो बाकी के ट्रायल पूरे करके अब ह्यूमन ट्रायल के लिए केंद्रीय ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइज़ेशन को आवेदन भी दिया हुआ है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.