Thursday, May 13, 2021
-->
ICMR Releases New Guidelines due to Indiscriminate Use of Plasma Therapy sohsnt

प्लाज्मा थेरेपी के 'अंधाधुंध' उपयोग को देखते हुए ICMR ने जारी की नई गाइडलाइन्स, पढ़ें पूरी खबर

  • Updated on 11/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर दुनियाभर में लगातार जारी है। कोरोना से बचाव के लिए दुनियाभर में अलग-अलग तरह के प्रयोग किये जा रहे हैं। इसी क्रम में भारत में संक्रमण से बचाव के लिए तैयार की गई प्लाज्मा थेरेपी (Plasma Therapy) भी नाकाम साबित होती नजर आ रही है। दरअसल, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने कोविड-19 के इलाज में प्लाज्मा के अंधाधुंध उपयोग को लेकर चेतावनी जारी कर दी है।

Corona: दुनियाभर में नहीं थम रहा कोरोना का कहर, अब तक 5 करोड़ से अधिक लोग हुए संक्रमित

प्लाज्मा थेरेपी को लेकर आईसीएमआर ने जारी की एडवाइजरी
आईसीएमआर ने विशिष्ट मानदंड को पूरा करने वाले प्लाज्मा थेरेपी (CPT) को लेकर एक नई एडवाइजरी जारी की है,  जिसमें कहा गया है कि, कोविड -19 रोगियों के अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु की अवधि में सीपीटी के लाभ प्लाज्मा में विशिष्ट एंटीबॉडी की एकाग्रता पर निर्भर करते हैं जो SARS-CoV-2 के प्रभावों को कम कर सकते हैं। इसके साथ ही कहा गया है कि SARS-CoV-2 के खिलाफ विशिष्ट एंटीबॉडी की कम सांद्रता वाले आक्षेपिक प्लाज्मा कोरोना रोगियों के उपचार के लिए कम लाभदायक साबित हो सकते हैं।

Pfizer और BioNTech का दावा- कोविड वैक्सीन अंतिम विश्लेषण में 95% प्रभावी, जल्द करेंगे आवेदन

प्लाज्मा के अंधाधुंध उपयोग को लेकर चेतावनी
बता दें कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति में लक्षणों की शुरुआत 3-7 दिन में नजर आने लगती है इस प्रक्रिया में अधिक से अधिक 10 दिन का समय लगता है उससे अधिक नहीं। संक्रमित व्यक्ति में कोविड -19 के खिलाफ कोई एंटीबॉडी एक सूचित सहमति प्राप्तकर्ता से लेनी होती है। आईसीएमआर के मुताबिक केवल वहीं महिलाएं जिन्होंने कभी गर्भधारण नहीं किया है, इसके अलावा 18 से 65 वर्ष के बीच के लोग ही प्लाज्मा दान कर सकते हैं। प्लाज्मा के अंधाधुंध उपयोग को लेकर जारी चेतावनी के संबंध में  आईसीएमआर के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि थेरेपी के दुष्प्रभाव की खबरें थीं और ये बेतरतीब ढंग से दी जा रही थी, जिसके कारण एडवाइजरी जारी की गई है।

कोरोना के खौफ के साए में देश की राजधानी दिल्ली, 24 घंटे में रिकॉर्ड 131 मौतें

भारत में कोरोना से 89,58,484 लोग संक्रमित
देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। भारत (India) में कोरोना से 89,58,484  लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 1,31,578 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि राहत की बात ये है कि  83,83,603 इस वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। सक्रिय मामलों (Active Cases) की कुल संख्या 4,43,303  है। 

खुशखबरी! भारत ने 150 करोड़ कोरोना वैक्सीन के डोज का किया अडवांस बुकिंग

दुनियाभर में 55,608,448 करोड़ लोग संक्रमित
वहीं अगर पूरी दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामलों की बात कही जाए तो इस वायरस से पूरे विश्व में 55,608,448 करोड़ लोग संक्रमित हो गए है। जबकि 1,346,153 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि राहत की बात ये है कि दुनियाभर में कोरोना को मात देकर अब तक 38,959,923 करोड़ लोग ठीक हो चुके हैं।

 

comments

.
.
.
.
.