Monday, Dec 06, 2021
-->
if-not-vaccinated-may-have-to-remain-deprived-of-treatment

नहीं लगा टीका तो, इलाज से भी रहना पड़ सकता है वंचित 

  • Updated on 11/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। सरकार, स्थानीय प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और सामाजिक संगठनों की निरंतर अपील के बावजूद कुछ नागरिक अभी भी कोरोनारोधी टीकाकरण के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। वह खुद के साथ-साथ दूसरों की जान को भी जोखिम में डाल रहे हैं। यदि जल्द ही इनके द्वारा टीकाकरण नहीं कराया गया और वह सरकारी चिकित्सा सुविधा का लाभ लेना चाहते हैं तब उन्हें इससे वंचित रहना पड़ सकता है। हालांकि अभी ऐसी कोई बाध्यता नहीं है, लेकिन निकट भविष्य में ऐसा संभव हो सकता है। इस पर फिलहाल विचार-मंथन चल रहा है।

फिलहाल अभी सरकारी अस्पताल में रजिस्ट्रेशन काउंटर पर ओपीडी के लिए पर्चा बनवाने से पूर्व टीका लगवाने के लिए अपील करने को कहा है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. नीरज अग्रवाल का कहना है कि कोरोना संक्रमण का प्रकोप पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है। फिर भी लोग कोविड से बचाव के लिए टीका लगवाने में रूचि नहीं दिखा रहे हंै। जबकि अभी तीसरी लहर की आश्ंाका भी जताई गई है। वहीं, बाहरी राज्यों एवं विदेशों में संक्रमण तेजी से फैल भी रहा है। ऐसे में यहां भी लोगों से टीका लगवाने के लिए अपील की जा रही है। इसके लिए विभिन्न विभागों को पत्र लिखकर उनसे भी अपने स्टाफ और लोगों से टीका लगवाने की अपील करने को कहा गया है।

सरकारी अस्पताल में भी ओपीडी में इलाज कराने के लिए पहुंचने वालों को भी जागरूक किया जा सके। इस संबंध में जिला एमएमजी अस्पताल को भी पत्र लिखा गया है। इसमें अस्पताल की ओपीडी में इलाज कराने के लिए रजिस्ट्रेशन कराने वालों से भी उन्होंने टीका लगवाया या नहीं इसकी जानकारी करने को कहा है और टीका नहीं लगवाने वालों से वैक्सीन लगवाने की अपील की जाएगी। जिसने अभी तक एक भी टीका नहीं लगवाया है, वह जिला अस्पताल में टीका लगवा सकता है।

यहां टीकाकरण किया जा रहा है। संयुक्त अस्पताल व सीएचसी-पीएचसी को भी इस संबंध में अवगत कराया जाएगा। फिलहाल अभी ऐसी कोई बाध्यता नहीं है कि टीका लगवाने के बाद ही उन्हें सरकारी चिकित्सा सुविधा मिलेंगी। हां, यदि जरूरत पड़ी तो प्रशासन से वार्ता कर इस पर भी विचार किया जाएगा। बता दें कि जिले में 27 लाख लोगों को टीका लगना है। अभी तक 24 लाख को पहला टीका लग चुका है। अब 30 नवम्बर तक शेष तीन लाख को टीके लगाए जाने हैं। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग हर प्रयास कर रहा है। कम टीकाकरण इलाकों से लेकर मदरसों में अपील की जा रही है। 

स्कूली बच्चे देंगे अभिभावकों का प्रमाण पत्र 
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. नीरज अग्रवाल के अनुसार आरटीओ कार्यालय समेत विभिन्न विभागों से अपने यहां  पहुंचने वाले लोगों से अपील करने को कहा है। इसके अलावा सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों के माता-पिता ने टीका लगवाया या नहीं इसकी भी जानकारी लेने को कहा गया है। बच्चों से अभिभावकों का टीकाकरण प्रमाण पत्र लाने को कहा गया है। इस संबंध में बीएसए को पत्र लिखा जा चुका है। यदि अभी तक टीका नहीं लगवाया है तब टीकाकरण के लिए अपील की जाएगी। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.