Friday, Oct 29, 2021
-->
if-war-happens-india-will-have-edge-over-china-prsgnt

अगर जंग हुई तो चीन नहीं भारत का पलड़ा रहेगा भारी, जानिए कितनी है दोनों देशों की ताकत

  • Updated on 6/18/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत और चीन के बीच 15 जून की रात को हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए जवानों के प्रति पूरा देश अपनी संवेदनाएं व्यक्त कर रहा है। इस हिंसक संघर्ष में इंडियन आर्मी के 20 जवान शहीद हुए जबकि चीन की तरफ से 45 सैनिकों के हताहत होने की खबर आ रही थी। इस घटना के बाद अब दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है।

हालांकि दोनों देशों के बीच बातचीत कर मामला सुलझाने की कोशिश की जा रही है। पीएम मोदी ने भी इस बारे में कहा है कि सैनिकों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा।

इस बीच युद्ध के भी आसार बन रहे हैं, ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि हम यह जान लें कि अगर भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ तो किसका पलड़ा ज्यादा भारी रहेगा।

चीनी सेना ने कैसे किया भारतीय जवानों पर हमला? गलवान के सैनिकों ने बयां की पूरी दास्तां...

भारत पड़ेगा चीन पर भारी
युद्ध के हलतन बने ऐसे प्रयास किये जा रहे हैं लेकिन अगर भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ तो भारत का पलड़ा चीन से भारी रहेगा। इस बारे में अमेरिका की वेबसाइट सीएनएन ने रिपोर्ट में कहा है। रिपोर्ट कहती है कि अगर भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ तो भारत का पलड़ा चीन से भारी हो सकता है।

इस रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि साल 1962 से लेकर अब तक भारत के हालात काफी बदल गए हैं. अब भारत की ताकत बढ़ गई है।

1967 में भारत-चीन में हुआ था लघु युद्ध, भारतीय सेना ने 1962 की हार का लिया था बदला

दोनों देशों के पास है परमाणु हथियार
युद्ध में परमाणु हथियारों का इस्तेमाल तबाही लाता है इसलिए कोई भी देश कभी नहीं चाहता कि परमाणु हथियारों का इस्तेमाल किया जाए। लेकिन इस बारे में अगर भारत को चीन के हथियारों की तुलना करें तो भारत और चीन दोनों के पास न्यूक्लियर हथियार हैं।

हालांकि चीन भारत से पहले ही परमाणु हथियार से संपन्न बन गया था और भारत को 10 साल बाद ये ताकत मिली थी।  

सीमा विवाद के बीच चीन की धमकी, कहा भारत को अपनी सैन्य क्षमता का है भ्रम, सच दुनिया जानती है

दोनों देशों की आर्म्ड फोर्स की ताकत
भारत की आर्म्ड फोर्स बेहद मजबूत है, उसके कश्मीर जैसे हर पल चुनौतियां मिलने वाले राज्य में काम करने का बड़ा अनुभव है। जबकि चीन के पास जमीनी लड़ाई का कोई अनुभव नहीं है। बताया जाता है कि चीन ने आखिरी और अंतिम लड़ाई 1979 में वियतनाम के खिलाफ लड़ी थी जिसमें चीन हार गया था।

भारत के पास तिब्बत और एलएसी इलाके में सवा दो लाख से ज्यादा फौजी हैं जबकि चीन के पास दो लाख तीस हजार सैनिक हैं। वहीँ भारत के पास कई खतरनाक इलाकों में काम करने का अनुभव है इसलिए चीन वहां तो नहीं लेकिन रेल लाइनों पर हमला कर सकता है।

राहुल ने पूछा सवाल- आखिर क्यों चुप हैं पीएम? चीन की हिम्मत कैसे हुई हमारे सैनिकों को मारने की?

एयरफोर्स की ताकत
इस साल मार्च में बेलफर की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन की सीमा पर भारत के कई एयरबेस हैं जहां से भारत हमला कर सकता है। चीन के पास 157 फाइटर जेट हैं। चीन के पास जमीन पर मार करने वाले एयरक्राफ्ट भारत से भी कम है। भारत के पास 68 एयरक्राफ्ट हैं। वहीँ, चीन के पास 270 फाइटर जेट हैं।

इस स्टडी में यह भी कहा गया है कि भारत के मिराज 2000 और Su-30 किसी भी मौसम में उड़ान भरने के काबिल हैं लेकिन चीन के जेट J-10 में यह ताकत नहीं है।

comments

.
.
.
.
.