Thursday, Oct 29, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 28

Last Updated: Wed Oct 28 2020 03:36 PM

corona virus

Total Cases

7,990,643

Recovered

7,257,444

Deaths

120,067

  • INDIA7,990,643
  • MAHARASTRA1,654,028
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA809,638
  • TAMIL NADU714,235
  • UTTAR PRADESH474,054
  • KERALA402,675
  • NEW DELHI364,341
  • WEST BENGAL357,779
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA285,482
  • TELANGANA232,671
  • BIHAR213,383
  • ASSAM204,789
  • RAJASTHAN189,844
  • CHHATTISGARH179,654
  • GUJARAT169,073
  • MADHYA PRADESH168,483
  • HARYANA160,705
  • PUNJAB131,737
  • JHARKHAND100,224
  • JAMMU & KASHMIR92,677
  • CHANDIGARH70,777
  • UTTARAKHAND60,957
  • GOA42,747
  • PUDUCHERRY34,482
  • TRIPURA30,290
  • HIMACHAL PRADESH20,817
  • MANIPUR17,604
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,274
  • SIKKIM3,863
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,227
  • MIZORAM2,359
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
iit-and-nit-institutions-will-solve-pollution-problem-ramnath-kovind

देश के IIT और NIT जैसे संस्थान निकाल लेंगे प्रदूषण का समाधान: रामनाथ कोविंद

  • Updated on 11/20/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली (Delhi) में लगातार प्रदूषण (Pollution) के बढ़ती समस्या से निपटने के लिए उपाओं की खोज की जा रही है, वहीं दूसरी ओर जल और वायु प्रदूषण (Air Pollution) पर पिछले कुछ दिनों से सियासी हंगामा चल रहा है। इसी बीच राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) ने मंगलवार को विश्वास जताया है कि आईआईटी (IIT) और एनआईटी (NIT) जैसे संस्थान इस समस्या का सामाधान ढूंढ लेंगे।

राष्ट्रपति भवन में भारतीय प्रौद्धोगिकी संस्थान, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और नेशनल इस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग साइंस एंड टेक्नोलॉजी के निदेशकों का वार्षिक सम्मेलन हुआ। इसमें 23 आईआईटी, 31 एनआईटी और आईआईईएसटी के निदेशकों ने हिस्सा लिया।

श्री गुरु नानक देव जी ने मानवता को गृहस्थ में रह कर धर्म कमाने का रास्ता दिखाया: रामनाथ कोविन्द

आईआईटी और एनआईटी ढूंढ लेंगे प्रदूषण से निपटने का रास्ता
राष्ट्रपति ने कहा कि अपनी विशेषज्ञता के माध्यम से वायु प्रदूषण की समस्या का समाधान ढूंढने के साथ ही आईआईटी और एनआईटी छात्रों और शोधकर्ताओं में संवेदनशीलता जगाएंगे। सम्मेलन में कोविंद ने कहा ये ऐसा वक्त्त है जब दिल्ली और कई अन्य शहरों की वायु गुणवत्ता काफी खराब है। उन्होंने कहा कि कई विज्ञानिकों ने भविष्य की दुखद तस्वीर पेश की है। मुझे विश्वास है कि शीर्ष संस्थान इसका समाधान निकालेंगे। 

ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स दो दिवसीय यात्रा पर आ रहे हैं भारत, कई अहम मुद्दो पर करेंगे चर्चा

प्रदूषण से हमारे अस्तित्व पर खतरा बढ़ रहा है
राष्ट्रपति कोविंद ने कहा हम इस समय ऐसी चुनौती का सामना कर रहे हैं, जो पहले कभी नहीं आई। पिछले कुछ सदियों में हाईड्रोकार्बन ऊर्जा ने दुनिया का चेहरा बदल दिया है। लेकिन अब इससे हमारे अस्थित्व पर ही खतरा बढ़ रहा है। 

राष्ट्रपति ने कहा कि प्रदूषण जैसी समस्या उन देशों के लिए मुश्किल हैं जो एक बड़ी जनसंख्या को गरीबी से बाहर निकालने के लिए संघर्षरत हैं। उन्होंने कहा कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस सूचकांक में भारत की रैंकिंग सुधारने का प्रयास करने के बाद उद्देश्य सभी नागरिको के लिए ईज ऑफ लिविंग में सुधार लाना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.