Tuesday, Apr 13, 2021
-->
IIT Delhi built 50 liter hand sanitizer after seeing shortage

कोरोना वायरस: IIT दिल्ली ने किल्लत को देख बनाया 50 लीटर हैंड सैनिटाइजर

  • Updated on 3/25/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में कोरोना वायरस (coronavirus) के चलते आवश्यक वस्तुएं मॉस्क (Mask) और हैंड सैनिटाइजर (Sanitizer) की कमी हो गई है। लोग कोरोना के महामारी घोषित होते ही लोग बाजारों में टूट पड़े दुकानदारों ने भी कीमतें बढ़ा चढ़ाकर लीं। इस कमी से निपटने के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान(आईआईटी) दिल्ली ने एक नया तरीका खोज निकाला।

कोरोना वायरस: नोएडा में नकली सैनिटाइजर व मास्क बनाने वाली एक कंपनी पर छापा, मामला दर्ज

हैंड सैनिटाइजर खरीदना मुश्किल हो रहा मुश्किल
उन्होंने अपनी प्रयोगशाला में बड़ी मात्रा में हैंड सैनिटाइजर तैयार किये जिसे मामूली दामों में अन्य विभागों व लोगों को मुहैया कराया जा रहा है। आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रो. वी राम गोपाल राव ने कहा कि किल्लत के चलते संस्थान को बड़ी मात्रा में हैंड सैनिटाइजर खरीदना मुश्किल हो रहा था। विक्रेता अत्यधिक मात्रा में उसका चार्ज मांग रहे थे। इतना ही नहीं बाजारों में उपलब्ध कुछ हैंड सैनिटाइजर्स की गुणवत्ता भी संदिग्ध थी।

सावधान! नकली Sanitizer से बना लें दूरी नहीं तो आप भी हो जाएंगे Coronavirus से संक्रमित

दो दिन में बना 50 लीटर हैंड सैनिटाइजर 
राव ने कहा ऐसी स्थिति में मैने अपने रसायन विज्ञान के प्रोफेसरों से बात की। उनसे पूछा कि क्या ऐसी स्थिति में संस्थान के लिए कुछ हैंड सैनिटाइजर्स बनाये जा सकते हैं । आईआईटी प्रोफेसर ने कहा कि यह काम हमारे यहां के तकनीकी कर्मचारी भी कर सकते हैं।अगले दो दिन में संस्थान की प्रयोगशाला में 50 लीटर हैंड सैनिटाइजर बना लिया गया।

आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसरों ने प्रमाणित किया सैनिटाइजर 
राव ने इसपर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट की जिसमें उन्होंने कहा कि संस्थान में बना हैंड सैनिटाइजर डब्ल्यूएचओ के मानक का है इसे आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसरों ने प्रमाणित किया है। इसे मामूली दामों में दिया जा रहा है। बाद में आईआईटी दिल्ली की वेबसाइट पर सैनिटाइजर का विवरण भी जारी किया गया। जिसके अनुसार एलोवेरा के साथ 3 रसायनों को इसे बनाने में इस्तेमाल किया गया है जिसमें प्रमुख घटक आइसोप्रोपिल अल्कोहल (75%) है।

30 सेकेंड तक हाथो पर मलने से अच्छे परिणाम
प्रोफेसर अनिल जे इलियास रसायन विभाग प्रमुख आईआईटी दिल्ली ने इस पर कहा कि 70 फीसद अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर को ही हाथों पर रगड़ने से छोटे-छोटे जीवाणुओं को मारा जा सकता है। इसे 30 सेकेंड तक हाथो पर मलने से अच्छे परिणाम मिलते हैं।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें... 

क्या अखबार पढ़ने से हो सकता है कोरोना का संक्रमण? जानिए क्या कहता है WHO

क्या है कोरोना वायरस? जानें, बीमारी के कारण, लक्षण व समाधान

इन आयुर्वेदिक उपायों का करें इस्तेमाल, नहीं आएगा Coronavirus पास 

coronavirus: 5 दिन में दिखे ये लक्षण तो जरूर कराएं जांच 

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार 

कोरोना वायरस: जिम बंद हुए हैं एक्सरसाइज नहीं, 'वर्क फ्रॉम होम' की जगह करें 'वर्कआऊट फ्रॉम होम' 

Coronavirus को रखना है दूर तो डाइट में शामिल करें ये 7 चीजें 

कोरोना वायरस : मास्क के इस्तेमाल में भी बरतें सावधानियां, ऐसे करें यूज 

कोरोना वायरस से जुड़े ये हैं कुछ खास मिथक और उनके जवाब 

मिल गया Coronavirus का इलाज! जल्द ठीक हो सकेंगे सभी संक्रमित 

comments

.
.
.
.
.