Thursday, Aug 18, 2022
-->
in-number-of-pilgrims-in-yamunotri-and-gangotri-because-of-mansun

गंगोत्री-यमुनोत्री यात्रा पर भारी मानसून, तीर्थ यात्रियों की तादाद में गिरावट

  • Updated on 7/6/2018

उत्तरकाशी/ब्यूरो। मानसून के चलते गंगोत्री व यमुनोत्री तीर्थ धाम की रफ्तार धीमी होने लगी है। यात्रियों की तादाद हर दिन कम होने से यात्रा पड़ावों में भी सन्नाटा पसरने लगा है। होटल,धर्मशालाओं, गेस्ट हाउसों में भी चहल पहल कम हो गई है। 

गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के मुख्य प्रवेश द्वार उत्तरकाशी में रामलीला मैदान में यात्रा वाहनों की पार्किंग में गिने चुने वाहन ही कभी कभार नजर आ रहे हैं। जैसे-जैसे मानसून आगे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे इसका असर यात्रा पर भी पड़ रहा है। 

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष बोले, साधु-संतों के सानिध्य में बनेगा राममंदिर

पिछले दो दिनों में गंगोत्री और यमुनोत्री धामों में यात्रियों का आंकड़ा हजार भी पार नहीं कर पाया। दोनों धामों में मिलाकर कुल 723 श्रद्धालु ही पहुंचे। वैसे चारधाम यात्रा में हर वर्ष बरसात में यात्रा कम हो जाती है। फिर भी कई लोग यात्रा पर आते हैं।

दोनों धामों की बात करें, तो दिक्कत यमुनोत्री धाम में आ रही है। डाबरकोट भूस्खलन जोन ने एक तरह से पूरी यात्रा का मजा किरकिरा कर दिया है। पिछले एक साल से डाबरकोट के प्रति शासन और प्रशासन की अनदेखी का असर चारधाम यात्रा पर पड़ रहा है। 

13 महिलाओं को मिला तीलू रौतेली सम्मान, 20 आंगबाड़ी कार्यकत्रियां भी की गईं सम्मानित

डाबरकोट का कोई स्थायी समाधान न होने और यहां बार-बार भूस्खलन की वजह से यात्री यमुनोत्री की ओर कम रुख कर रहे हैं। फिलहाल यह तय हो गया है कि भूस्खलन की स्थिति में यात्रियों को इस साल की पूरी यात्रा में वैकल्पिक मार्ग ही नापना पड़ेगा। 

डीएम डॉ. आशीष चौहान ने बताया कि वैकल्पिक मार्ग को दुरुस्त रखने के निर्देश देने के साथ ही डाबरकोट भूस्खलन के नजदीकी त्रिखोली, कुन्सोला मोटर मार्ग की 6 करोड़ 3 लाख की डीपीआर शासन को भेजी गई है। इसके बनने से डाबरकोट का समाधान निकल जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.