Thursday, May 06, 2021
-->
in the country, 1,66,16,048 people got vaccine, bharat biotech kovid shot 81% effective

देश में बुधवार को कुल टीकाकरण 1.63 करोड़ के पार, भारत बायोटेक का कोविद शॉट 81% प्रभावी

  • Updated on 3/4/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हैदराबाद (Hyderabad) स्थित भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने बुधवार को कहा कि कोविद -19 के खिलाफ वैक्सीन ने दूसरे खुराक के बाद पूर्व संक्रमण के बिना प्रतिभागियों की सुरक्षा में चरण 3 नैदानिक ​​परीक्षणों में 81 प्रतिशत अंतरिम प्रभावकारिता का प्रदर्शन किया है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के साथ भारत बायोटेक द्वारा विकसित वैक्सीन उम्मीदवार कोवाक्सिन को क्लिनिकल ट्रायल मोड में आपातकालीन उपयोग के लिए विनियामक अनुमोदन प्राप्त हुआ, जिसमें जनवरी की शुरुआत में लाभार्थियों को टीकाकरण से पहले एक सहमति फॉर्म पर हस्ताक्षर करना होगा ।

भारत में 16 जनवरी से टीकाकरण कार्यक्रम को शुरू किया गया था, कोरोनोवायरस के खिलाफ देश का पहला स्वदेशी वैक्सीन कोवाक्सिन की एक लाख से अधिक खुराक, स्वास्थ्य और सीमावर्ती श्रमिकों के प्राथमिकता समूह को प्रशासित किया गया है।

कश्मीर के आर्थिक एवं सियासी हालात को लेकर उठाए गए कदमों की अमेरिका ने की तारीफ

प्रतिकूल घटनाओं में वैक्सीन निर्माता करेंगे क्षतिपूर्ति का भुगतान
कोविशिल्ड और कोवाक्सिन दोनों को लाभार्थियों को दिया जा रहा है, जिसमें 1 मार्च से, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के सदस्य, और संबंधित के साथ 45 से 60 वर्ष के बीच के लोग शामिल हैं। क्लिनिकल ट्रायल मोड के तहत, जिन्हें कोवाक्सिन दिया जाता है, उन्हें टीकाकरण के बाद ट्रैक किया जाता है और निगरानी की जाती है, और गंभीर प्रतिकूल घटनाओं के मामले में वैक्सीन निर्माता क्षतिपूर्ति का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होता है, यदि यह घटना वैक्सीन से संबंधित साबित हो जाती है। इसके अलावा किसी भी प्रतिकूल घटना के मामले में कंपनी निर्दिष्ट स्वास्थ्य केंद्रों में देखभाल के मानक प्रदान करती है।

असम में BJP और सहयोगी दलों के बीच सीट शेयरिंग पर बनी सहमति, आज होगी घोषणा

बुधवार को कुल टीकाकरण 1.63 करोड़ के पार
बता दें कि बुधवार की रात को, सरकार के सह-विन डैशबोर्ड में कोविद -19 वैक्सीन की 1,25,36,582 खुराक दिखाई गई थी, केवल 10.42 प्रतिशत कोवैक्सिन थे। सह-विन डेटा कुछ दिनों के वास्तविक टीकाकरण डेटा को पीछे छोड़ देता है, बुधवार को कुल टीकाकरण 1.63 करोड़ को पार कर गया था, लेकिन कोविक्सिल से कोविशिल्ड का अनुपात टीकाकरण ड्राइव के दौरान लगभग 1:10 रहा है। कोविशिल्ड का बड़ा हिस्सा सीरम इंस्टीट्यूट की उच्चतर विनिर्माण क्षमता के कारण है।

छत्तीसगढ़ जैसे कुछ राज्यों ने केवल कोविशिल्ड के लिए केंद्र से पूछा था, यह देखते हुए कि कोवाक्सिन को प्रभावकारिता डेटा के बिना और नैदानिक ​​परीक्षण मोड में अनुमोदित किया गया था। बुधवार के अंतरिम परिणामों के बाद, और कोविक्सिन कोविशिल्ड के समान आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण प्राप्त करने की उम्मीद के साथ, भारत बायोटेक के वैक्सीन के प्रशासन को पूरे देश में रैंप-अप देखने की संभावना है।

PM मोदी की दाढ़ी पर मचा बवाल, मुरलीधरन बोले- इलाज कराएं शशि थरूर

कोविशील्ड से एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न
बता दें कि कोविड-19 संक्रमण से ठीक हो चुके व्यक्तियों में कोविशील्ड टीके का तेजी से असर होता है और उनमें एंटीबॉडी का स्तर अधिक पाया जा रहा है। यह बात एक अध्ययन से सामने आयी है। इससे इसकी उम्मीद बनी है कि हो सकता है कि ऐसे व्यक्तियों को दूसरी खुराक देने की जरूरत नहीं पड़े और इस तरह से भारत में कोरोना वायरस टीकाकरण का विस्तार करने में मदद मिलेगी।

कोविशील्ड की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पर अध्ययन नयी दिल्ली के सीएसआईआर-इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (आईजीआईबी), मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल एंड इंस्टीट्यूट ऑफ एंडोक्राइनोलॉजी, डायबिटीज एंड मेटाबॉलिज्म के साथ ही एकेडमी आफ साइंटिफिक एंड इनोवेटिव रिसर्च (एसीएसआईआर) गाजियाबाद के अनुसंधानकर्ताओं द्वारा किया गया। अध्ययन के लेखकों में शामिल सीएसआईआर, आईजीआईबी के निदेशक अनुराग अग्रवाल ने कहा, ‘कोविशील्ड से एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न हो रही है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.