Wednesday, Jul 06, 2022
-->
in-the-scorching-heat-the-number-of-patients-of-vomiting-and-diarrhea-reached-two-thousand

भीषण गर्मी में उल्टी-दस्त के मरीजों की संख्या पहुंची दो हजार पार 

  • Updated on 5/16/2022

नई दिल्ली,(टीम डिजिटल):दिल्ली से सटे नोएडा में भीषण गर्मी में उल्टी-दस्त के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसके साथ ही वायरल, डीहाईड्रेशन, पीडियाट्रिक विभाग में संक्रमण से ग्रसित मरीज व बच्चे भारी संख्या में जिला अस्पताल और चाइल्ड पीजीआई पहुंच रहे हैं। गर्मी के प्रकोप का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जिला अस्पताल और चाइल्ड पीजीआई में रोजाना ओपीडी में दो हजार से अधिक मरीजों के पर्चे बनाए जा रहे हैं।

बढ़ते तापमान के चलते लोगों में वायरल संक्रमण का प्रकोप भी काफी तेजी के साथ फैल रहा है। बदलते मौसम में सबसे ज्यादा असर लोगों के स्वास्थ्य पर नजर आ रहा है। इससे उल्टी और दस्त के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। जिला अस्पताल में लगातार उल्टी और दस्त के मरीज चिकित्सीय उपचार के लिए पहुंच रहे हैं। यहां पर ओपीडी में मरीजों की रोजाना भीड़ जमा हो रही है। जिला अस्पताल में अगर मरीजों की बात की जाए तो रोजना 15 सौ से दो हजार मरीजों की पर्ची ओपीडी के लिए बनायी जा रही है। आम दिनों में जिला अस्पताल में पांच सौ से सात सौ तक मरीज पहुंचते हैं।
 

ऐसे रखें अपना ध्यान 
जिला अस्पताल में फिजिशियन डॉक्टर हरी मोहन गर्ग ने बताया कि गर्मी के दिनों में ताजा भोजन करें, पानी अधिक पिएं, खाने में हरी सब्जी व ताजे फल लें। रात में अधिक खाने से बचे और संयमित और संतुलित आहार सेहत के लिए लाभकारी है। उल्टी, दस्त की शिकायत पर तुरंत चिकित्सक से संपर्क कर दवाएं लेकर स्वास्थ व सेहतमंद रहें।
 

बच्चों को ओआरएस का घोल देने के साथ धूप से बचाएं
जिला अस्पताल में फिजिशियन डॉक्टर हरी मोहन गर्ग ने बताया कि गर्मी का प्रकोप बच्चों में भी खासा देखा जा रहा है। चाइल्ड पीजीआई में बच्चों के पीडियाट्रिक विभाग में वायरल व डीहाईड्रेशन से ग्रसित मरीज बच्चे आ रहे हैं। बच्चों को ओआरएस का घोल देने के साथ धूप में न निकलने की सलाह दी जा रही है। चाइल्ड पीजीआई में बीमार बच्चों की संख्

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.