Wednesday, Dec 08, 2021
-->
increasing crowd in the hospitals of people consuming a lot of medicines during corona KMBSNT

दिल्ली: कोरोना के डर से ढेर सारी दवाएं खाने वाले लोगों की अस्पतालों में बढ़ रही भीड़

  • Updated on 9/28/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान लोगों ने खुद की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बिना सोचे समझे या बिना डॉक्टरी सलाह के ढेर सारी दवाओं का उपयोग किया। ऐसा करने वाले लोगों को अब उसका नुकसान उठाना पड़ रहा है। दिल्ली के अस्पतालों में ऐसे कई केस समाने आ रहे हैं।

सफदरजंग और एलएनजेपी समेत कई अस्पतालों में ऐसे मामले देखने को मिल रहे हैं। जिन लोगों ने कोरोना के दौरान अत्यधिक पेनकिलर दवाओं का उपयोग किया उनको अब विभिन्न प्रकार की दिक्कतें होने लगी है। कई लोगों को यूरिन की समस्या हुई। जांच की गई तो उनकी किडनी में खराबी पाई गई। 

राकेश टिकैत बोले- किसानों के भविष्य के लिए एक दिन की असुविधा को भूल जाएं 

कोरोना के बाद किडनी मरीजों की संख्या में इजाफा
सफदजंग अस्ताल के डॉक्टरों की मानें तो मल्टी विटामिन खाने से किडनी की दिक्कत नहीं होती। लेकिन उसके साथ लगातार पेन किलर खाने से समस्या उत्पन्न होती है। इसके साथ ही कई लोगों को किडनी की दिक्कत पहले से होती है, लेकिन इस बारे में पता न होने के कारण वो बिना डॉक्टर की सला के दवा लेते हैं जिससे दिक्कतें बढ़ जाती हैं। वहीं कोरोना से पहले जिन लोगों को किडनी की समस्या थी अब उनकी स्थिति और खराब हो गई है। 

जेपी नडडा बोले, राष्ट्र निर्माण और देश की विकास यात्रा में सारथि बने महिलाएं 

एम्स और एलएनजेपी में भी बढ़ रहे केस 
इसी प्रकार से एलएनजेपी और एम्स में भी पोस्ट कोविड मरीजों की संख्या बढ़ रही है। हालांकि जुलाई-अगस्त में इनकी संख्या ज्यादा थी। सितंबर में ये मामले कम सामने आए हैं। एम्स में क्रोनिक किडनी रोग के मामले इतनी तेजी से बढ़ रहे हैं कि हर किसी को उपचार देना भी संभव न हीं हो पा रहा है। 

comments

.
.
.
.
.