independence day special let know some interesting unheard stories related to august 15

स्वतंत्रता दिवस स्पेशल : आइए जानें, 15 अगस्त से जुड़े कुछ रोचक अनसुने किस्से

  • Updated on 8/15/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत इस बार 15 अगस्त को  73वां स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) मनाएगा। पीएम नरेंद्र (PM Narendra modi) मोदी दिल्ली के लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे। बता दें कि 15 अगस्त 1947 को भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र के तौर पर विकसित किया। इस दिन हर भारतीय स्वतंत्रता दिवस के जश्न से शहीदों को याद करके अपने को गौरवान्वित महसूस करता हैं।

ओवैसी के बिगड़े बोल, कहा- देश में जिंदा हैं गोडसे की औलादें, मुझे मार सकते हैं गोली

आइए जानते हैं 15 अगस्त से जुड़ी कुछ रोचक बातें...

  • भारत में हर साल लाल किले से देश का प्रधानमंत्री झंडा फहराते हैं पर 15 अगस्त 1947 को ऐसा नहीं हुआ था। एक शोध पत्र के मुताबिक पंडित नेहरू ने 16 अगस्त 1947 को लाल किले से झंडा फहराया था।
  •  जवाहर लाल नेहरू ने 14 अगस्त की मध्यरात्रि को वायसराय लॉज (मौजूदा राष्ट्रपति भवन) से ऐतिहासिक भाषण 'ट्रिस्ट विद डेस्टनी दिया, तब नेहरू प्रधानमंत्री नहीं बने थे। 
  • भारत और पाकिस्तान की सीमाओं का निर्धारित 17 अगस्त को किया गया जो कि रेडक्लिफ लाइन के नाम से जाना जाता है।
  • भारत आजाद हुआ तो देश का कोई राष्ट्रगान नहीं था। जन-गण-मन को राष्ट्रगान 1950 में बनाया गया हालांकि रवींद्रनाथ टैगोर इसे 1911 में ही लिख चुके थे।
  • 15 अगस्त भारत के अलावा तीन अन्य देशों का भी स्वतंत्रता दिवस होता है। 
  •  दक्षिण कोरिया जापान से 15 अगस्त, 1945 को आजाद हुआ। बहरीन को ब्रिटेन से 15 अगस्त, 1971 को आजादी मिली और फ्रांस ने कांगो को 15 अगस्त 1960 को स्वतंत्र घोषित किया।
  • भारत को स्वतंत्रता दिलाने में महात्मा गांधी की भूमिका बेहद खास थी लेकिन जब पूरा देश 15 अगस्त 1947 को मिली आजादी का जश्न मना रहा तो वह इसके जश्न में शामिल नहीं हुए थे। 
  • महात्मा गांधी उस दिन बंगाल में हिंदुओं और मुसलमानों के बीच हो रही हिंसा को रोकने के लिए अनशन कर रहे थे। 
  • जब यह तय हुआ कि 15 अगस्त को देश आजाद होगा तो जवाहर लाल नेहरू और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने गांधी जी को पत्र लिखकर इस बारे में सूचना देकर कहा आप राष्ट्रपिता है इसमें शामिल होकर अपना आशीर्वाद दें। 
  •  गांधी ने इसको लेकन अपना जवाब दिया कि कलकत्ता में हिंदू-मुस्लिम एक-दूसरे की जान ले रहे है, मैं जश्न मनाने कैसे आ सकता हूं। मैं इन्हें रोकने के लिए अपनी जान दे दूंगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.