Tuesday, Dec 07, 2021
-->
india-and-china-talks-between-core-commanders-today-talks-on-five-point-agreement-prshnt

भारत और चीन के बीच आज कोर कमांडरों की वार्ता, पांच सूत्री सहमति पर होगी बातचीत

  • Updated on 9/21/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत और चीन (India-China) की सेनाओं के बीच आज कोर कमांडरों की बातचीत होगी। आज मोल्डो (Moldo) में होने वाल ये वार्ता छठे दौर की है। सुत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से चीन की ओर मोल्डो में सुबह 9 बजे यह वार्ता शुरू होने वाली है। 

सरकारी सूत्रों से रविवार को मिली जानकारी के मुताबिक इस बातचीत के दौरान मुख्य रूप से पूर्वी लद्दाख में दोनों देशों के सौनिकों को पीछे हटाने और तनाव घटाने पर बनी पांच सूत्री सहमति पर मुख्य रूप से ध्यान केंद्रित किया जाएगा। 

गिरफ्तार पत्रकार के पास से बरामद दस्तावेज को रक्षा मंत्रालय भेजेगी पुलिस, होगी जांच

भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करेंगे
वहीं भारतीय प्रतिनिधिमंडल में पहली बार विदेश मंत्रालय से एक संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी के इस बातचीत में हिस्सा लेने की उम्मीद है। वहीं वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह स्थित भारतीय थल सेना की 14 वीं कोर के कमांडर, लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करने वाले हैं। जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व दक्षिण शिंजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर, मेजर जनरल लियू लिन के करने की संभावना है।

महाराष्ट्र: भिवंडी में गिरी 3 मंजिला इमारत, अबतक 10 लोगों की मौत, कई लोग मलबे में फंसे

जयशंकर और वांग यी के बीच हुई थी बैठक
इससे पहले शंघाई सहयोग संगठन से अलग 10 सितंबर को मास्को में विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके चीनी समकक्ष वांग यी के बीच बैठक हुई, जिसमें दोनों पक्ष सीमा विवाद हल करने पर एक सहमति पर पहुंचे थे। 

उस बैठकर के दौरान समस्या से छुटकारा पाने के लिए उपायों में सैनिकों को शीघ्रता सीमा से हटाना, सीमा प्रबंधन पर सभी समझौतों एवं प्रोटोकॉल का पालन करना, तनाव बढ़ाने वाली कार्रवाई से बचना, और एलएसी पर शांति बहाल करने के जैसे फैसले शामिल हैं। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.