Thursday, Apr 15, 2021
-->
india china border dispute  defence minister rajnath singh sohsnt

भारत-चीन सीमा विवाद पर राजनाथ बोले- नहीं निकला ठोस नतीजा, विस्तारवाद की नीति का देंगे जवाब

  • Updated on 12/30/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में सीमा विवाद को लेकर भारत-चीन के बीच अभी भी गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। ऐसे में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने बुधवार यानी आज एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि लद्दाख में सीमा विवाद पर अभी कोई ठोस निष्कर्ष नहीं निकला है, यहां यथास्थिति बरकरार है।

सेना प्रमुख नरवणे ने दक्षिण कोरिया के शीर्ष सैन्य प्राधिकारियों से की वार्ता, इन मुद्दों पर दिया जोर

जल्द दोनों देशों के बीच होगी अगले दौर की वार्ता
राजनाथ सिंह ने कहा, 'दोनों देशों के बीच बातचीत का सिलसिला जारी है। जल्द दोनों देशों के सैन्य प्रमुखों के बीच अगले दौर की वार्ता होनी है। उन्होंने चीन को करारा जवाब देते हुए कहा, अगर कोई देश विस्तारवाद की नीति अपनाता है, तो भारत उसे अपनी जमीन में घुसने से रोकने में सक्षम है। 

रोहिंग्या शरणार्थियों का नया ठिकाना, बांग्लादेश ने एक और जत्थे को सुदूर द्वीप पर भेजा

अब तक हो चुकी है पांचवें स्तर की बैठक
वहीं दूसरी ओर हाल ही में भारतीय और चीनी सेना के शीर्ष कमांडरों के बीच पांचवें स्तर की बैठक हुई थी जो करीब 11 घंटे तक चली। बैठक को लेकर अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारी के मुताबकि, बातचीत के दौरान भारत ने पैंगोंग सो और पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास टकराव वाले सभी स्थानों से चीनी सैनिकों के जल्द से जल्द पूरी तरह पीछे हटने को लेकर जोर डाला गया था।

रोहिंग्या शरणार्थियों का नया ठिकाना, बांग्लादेश ने एक और जत्थे को सुदूर द्वीप पर भेजा

स्थिति की तत्काल बहाली पर हुई थी बात 
बैठक के दौरान पूर्वी लद्दाख के सभी क्षेत्रों में पांच मई से पहले वाली स्थिति की तत्काल बहाली पर भी जोर दिया, जब पैंगोंग सो में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के कारण सीमा पर तनाव उत्पन्न हो गया था। रविवार की वार्ता में, भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह स्थित 14 कोर के कमांडर, लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व दक्षिणी शिनजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर, मेजर जनरल लियू लिन ने किया। इससे पहले, कोर कमांडर स्तर की पिछली वार्ता 14 जुलाई को हुई थी।

ये भी पढ़ें...

comments

.
.
.
.
.