Thursday, Jun 24, 2021
-->
india china face off  china bjp  ram madhavtibetan soldiers funeral sobhnt

तिब्बती कमांडर की शहादत सभा में पहुंचे राम माधव, चीन नीति में बदलाव के संकेत!

  • Updated on 9/8/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत-चीन (India China Clash) के बीच सीमा पर तनाव के बीच खबर आई है कि अर्धसैनिक बल के खुफिया फोर्स स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के जवानों के त्याग और बलिदान को केंद्र सरकार ने एक बार फिर सम्मान दिया है। सरकार ने तिब्बती कमांडो न्यिमा तेनजिन के बलिदान पर उसकी शहादत में शामिल होने के लिए बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव को भेजा था। जिसके बाद अंदाजा लगाया जा रहा है कि भारत सरकार ने तिब्बत को लेकर अपनी नीति में बदलाव किया है।  

लद्दाख और निकोबार में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर इतनी रही तीव्रता

सरकार ने दिया सम्मान
बता दें चुशूल में एसएसएफ के जवानों की महत्वपूर्ण भूमिका थी। चीनी सैनिकों को एसएसएफ के जवानों ने भारी टक्कर दी है। अब बीजेपी नेता का उनके जवान की शहादत में शामिल होने का मतलब है कि बीजेपी उनको सम्मान दे रही है। बता दें एसएफएफ एक खुफिया अर्धसैनिक बल है। जिसमें अधिकांश तिब्बत से आने वाले लोगों को शामिल किया जाता है। यह रॉ (RAW) के नेतृत्व में काम करती है। 

 

 

यहां पढ़ें अन्य महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.