Wednesday, Sep 18, 2019
India gives Pakistan a befitting reply at UNHRC says Pakistan is running a factory of lies

UNHRC में भारत ने पाक को दिया करारा जवाब, कहा- पाकिस्तान चला रहा झूठ की फैक्ट्री

  • Updated on 9/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान (Pakistan) ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में एक बार फिर जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) का मुद्दा उठाया लेकिन इस बार भी उसे मुंह की खानी पड़ी। दरअसल पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने पर बौखलाया हुआ है। मगर UNHRC में भारत (India) ने पाकिस्तान के आरोपों का करारा जवाब दिया है। भारत ने कहा कि कश्मीर हमारा आंतरिक मसला है और पाकिस्तान झूठ की फैक्ट्री चला रहा है। विदेश मंत्रालय (Foreign Ministry) की सेक्रेटरी विजय ठाकुर सिंह (Vijay Thakur Singh) ने जिनेवा में UNHRC में पाकिस्तान के झूठ उजागर किया। 

आंध्र प्रदेश: मुहर्रम जुलूस पर गिरी छत, 20 लोग घायल, विडियो हो रहा वायरल

'कश्मीर विकास के लिए सरकार उठा रही है कदम'

विजय ठाकुर सिंह ने कहा कि, मोदी (PM Modi) सरकार कश्मीर में सामाजिक-आर्थिक और न्याय को बढ़ावा देने के लिए अहम कदम उठा रही है। सरकार के फैसलों की बदौलत विकास का फायदा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख (Ladhakh) के लोगों को मिलेगा। शिक्षा और सूचना के अधिकार भी लागू होंगे। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने जरूरी सामानों की सप्लाई जारी रखी है और प्रतिबंधों में भी छूट दी जा रही है। 

दिल्ली: ट्रैफिक पुलिस ने ओवर लोडिंग पर काटा 1 लाख 41 हजार 700 रुपये का चालान

'आतंकवाद का गढ़ रहा है पाकिस्तान'

विजय ठाकुर सिंह ने आगे कहा कि पाकिस्तान भारत पर झूठे आरोप लगा रहा है। पाकिस्तान आतंकवाद (Terrorism) का गढ़ रहा है, जहां आतंकवादियों रहते हैं। UNHRC में भारत ने ये भी कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना पूरी तरह हमारा आंतरिक फैसला है, जिसे संसद में नियम के तहत पास कराया गया है। कोई भी देश अपने आंतरिक मामले में दखलअंदाजी नहीं पसंद करेगा। 

खस्ता हाल ऑटो सेक्टर पर वित्त मंत्री का बड़ा बयान, कहा- इसके लिए ओला-उबर हैं जिम्मेदार

पाक ने UNHRC में उठाया था जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार का मुद्दा

इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Mehmood Kuraishi) ने UNHRC में कहा कि, 'भारत दुनिया के सामने दिखावा कर रहा है कि जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य है। अगर वहां हालात सामान्य हो गया है तो फिर वो वहां पर मीडिया को क्यों नहीं जाने देते। अंतरराष्ट्रीय संगठनों, NGO और सिविल सोसायटी संगठनों को जम्मू-कश्मीर में क्यों नहीं जाने देते हैं।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.