Sunday, Sep 19, 2021
-->
india-is-heading-towards-modiciary-instead-of-judiciary-says-congress-mp-adhir-ranjan-prsgnt

बाबरी विध्वंस फैसले पर कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने जूडीशरी को बताया मोदीशरी….

  • Updated on 9/30/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बाबरी विध्वंस मामले में 28 साल बाद सभी 32 आरोपियों को बाइज्जत बरी कर दिया है। इस फैसले की कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कड़ी आलोचना की है। उन्होंने इसे जूडिशरी से मोदीशरी में बदलने की प्रक्रिया बताया है। जूडीशरी मोदीशरी 

उन्होंने कहा है कि देश स्वतंत्र न्यायपालिका से मोदी से प्रभावित न्यायपालिका की तरफ बढ़ गया है। इसके लिए उन्होंने एक शब्द कहा मोदीशरी। 

पश्चिम बंगाल के बेहरामपुर लोकसभा से कांग्रेस सांसद अक्सर विवादित टिप्पणियां देते रहते हैं। इस मामले पर भी उन्होंने दबे हुए लफ्जों में कहा कि फैसला देने वाले जज ने सरकार से पुरस्कृत होने के लिए न्याय को ताक पर रख दिया। इस फैसले से अब सही लोगों के मन में डर बैठ जाएगा और गलत प्रवृत्ति वालों को आनंद मिलेगा। 

हाथरस केसः विश्व हिंदू सेना का ऐलान, 'बलात्कारियों के गुप्तांग काटकर लाओ, मैं 25 लाख नकद दूंगा'

अधीर रंजन चौधरी ने इस बारे में ट्वीट करते हुए कहा कि 'जब न्याय नहीं किया जाता है तो सत्य के साथ खड़े लोगों के मन में आतंक बैठ जाता है जबकि गलत करने वाले खुशी से झूमते हैं। जब फैसला सरकार को खुश करने के लिए दिया जाता है तो फैसला देने वाला अपार संपत्ति और तोहफों से नवाजा जाता है। आशंका है कि ऐसा बार-बार हो। भारत जूडिशिरी की जगह मोदीशरी की तरफ बढ़ रहा है।'

 वहीँ, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा, 'ये सब सिर्फ दलितों को दबाकर उन्हें समाज में उनका ‘स्थान’ दिखाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की शर्मनाक चाल है। हमारी लड़ाई इसी घृणित सोच के खिलाफ है।' इससे पहले राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा, 'भारत की एक बेटी का रेप-कत्ल किया जाता है, तथ्य दबाए जाते हैं और अन्त में उसके परिवार से अंतिम संस्कार का हक भी छीन लिया जाता है। ये अपमानजनक और अन्यायपूर्ण है।'

बताते चले कि 14 सितंबर को चार पुरुषों ने हाथरस के एक गांव में युवती से सामूहिक बलात्कार किया था। अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उसे भर्ती कराया गया था। उसकी हालत और खराब होने के बाद उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भेजा गया, जहां उसने मंगलवार को दम तोड़ दिया। 

comments

.
.
.
.
.