Friday, Jan 28, 2022
-->
india-new-plan-to-take-revenge-centre-planning-extra-tariffs-on-300-products-prsgnt

भारत ने चीन से बदला लेने के लिए बनाया नया प्लान! इस योजना से बढ़ेंगी चीन की मुश्किलें

  • Updated on 6/19/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  भारत और चीन के बीच गालवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए जबकि 76 सैनिक घायल हो गए हैं। इस घटना के बाद से ही देश में चीन के प्रति लोगों में गुस्सा देखा जा रहा है। 

लोग चीनी सामान का बॉयकॉट कर रहे हैं और चीन के खिलाफ सरकार कड़े कदम उठाये इसे लेकर सड़कों पर विरोध प्रदर्शन किये जा रहे हैं।

अगर चीन का करना है बहिष्कार तो खुद तैयार करना होगा सस्ता और टिकाऊ माल

सरकार ने बनाई योजना
ऐसे में सरकार ने योजना बनाई है कि भारत अब चीन से आयत होने वाले सामानों पर रोक लगाएंगा। एक खबर के अनुसार, इस बारे में जानकारी देते हुए सरकारी अधिकारियों ने बताया कि भारत चीन को सबक सिखाने के लिए चीन से 300 से ज्यादा चाइनीस प्रोडक्ट पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ाएगा और आयात को काम करेगा।

LAC पर शहीद हुए जवानों के सम्मान में जन्मदिन नहीं मनाएंगे राहुल गांधी, कार्यकर्ताओं को दिया ये सुझाव

अप्रैल से हो रही थी प्लानिंग
बताया जा रहा है कि सरकार इस बार में अप्रैल से ही सोच रही थी और इसी को आगे बढ़ाने के लिए पीएम मोदी ने भारत को आत्मनिर्भर होने का मंत्र दिया था और लोकल से वोकल की बात की थी। इसी के तहत अब आगामी तीन महीनों में नया ड्यूटी स्ट्रक्चर लागू किया जा जाएगा। इस योजना में ट्रेड और फाइनेंस मिनिस्ट्री शामिल है। हालांकि उनकी तरह से अभी कोई बयान नहीं आया है। 

भारत चीन तनाव के बीच रूस ने दिया भारत का साथ

ये भी किया जा सकता है...
बताया जा रहा है कि भारत सरकार 160 से 200 चाइनीज प्रोडक्ट्स पर आयात शुल्क बढ़ाएगी और 100 चाइनीज प्रोडक्ट्स पर नॉन-टैरिफ बैरियर लगा सकती है। यहां बता दें कि नॉन टैरिफ बैरियर उन प्रोडक्ट के लिए यूज़ किया जाता है जिन पर शुल्क नहीं बढ़ाया जाता बल्कि उनके लाइसेंस और कड़े क्वालिटी चेक के द्वारा उनके आयात को कम करने की कोशिश की जाती है।

हिंसक झड़प के दौरान बंदी बनाए गए भारत के 2 मेजर सहित 10 जाबांजों को आज चीन के किया रिहा !

इससे कितना पड़ेगा असर 
बताया जा रहा है कि इस योजना को अपना कर 8 अरब डॉलर से लेकर 10 अरब डॉलर तक के प्रोडक्ट्स का आयात रोका जा सकेगा। जिससे चीन पर बड़ा आर्थिक असर पड़ सकता है। जबकि इस योजना को ट्रेड डेफेसिट कम करने का भी जरिया कहा जा रहा है।

चीन के खिलाफ हल्लाबोल! यूपी STF ने कर्मचारियों को चाइनीज APP हटाने का दिया आदेश

भारत का ट्रेड डेफेसिट
बता दें, मार्च 2019 में चीन और भारत के बीच 88 अरब डॉलर का द्विपक्षीय कारोबार हुआ था। इसमें भारत का ट्रेड डेफेसिट चीन से ज्यादा रहा क्योंकि भारत ने 53.5 अरब डॉलर वैल्यू का ज्यादा सामान खरीदा था। जबकि अप्रैल 2019 से लेकर फरवरी 2020 तक भारत का ट्रेड डेफेसिट चीन के साथ 46.8 अरब डॉलर रहा था।

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.