Tuesday, May 17, 2022
-->
india-s-growth-rate-to-be-13-percent-in-fy-2021-22-sohsnt

वित्त वर्ष 2021-22 में 13 फीसदी रहेगी भारत की विकास दर, मूडीज ने भी सुधारा अनुमान

  • Updated on 11/18/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) के दौरान लागू हुए लॉकडाउन (Lockdown) के चलते देश की अर्थव्यवस्था (Economy) को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा, हालांकि कोरोना का कहर अभी भी जारी है, लेकिन सरकार की ओर से सभी तरह की आर्थिक गतिविधियों की इजाजत दे दी गई है। ऐसे में अब देश की अर्थव्यवस्था में  सुधार नजर आने लगे हैं।

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 44,000 के पार, जानें क्या है शेयर बाजारों का हाल

अगले साल 13 फीसदी की दर से आगे बढ़ेगी जीडीपी
देश की आर्थिक गतिविधियों में आई तेजी को देखते हुए वैश्विक रिसर्च फर्म गोल्डमैन सॉक्स ने चालू वित्तवर्ष के विकास दर में सुधार के संकेत दिए हैं। एजेंसी ने अनुमान में सुधार करते हुए कहा कि साल 2020 में भारत की जीडीपी में लगभग 10 फीसदी गिरावट रहेगी, तो वहीं  साल 2021 यानी अगले साल यह 13 फीसदी की दर से आगे बढ़ेगी।

अक्टूबर में कोरोना पूर्व के स्तर पर पहुंचने के बाद नवंबर में डीजल बिक्री गिरी

औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में बढ़ोतरी
दरअसल, अक्टूबर में परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स में हुई बढ़ोतरी को देखते हुए गोल्डमैन सॉक्स ने कहा कि पीएमआई की वृद्धि दर बीते कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ते हुए 58 अंक तक जा पहुंचा है। इसके अलावा बीते 6 महीने में पहली बार औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में बढ़ोतरी देखने को मिली है। इन संकेतों से स्पष्ट होता है कि 2020-21 के विकास दर अनुमानों में भी सुधार करने की जरूरत है।

लक्ष्मी विलास बैंक के खाताधारकों को लगा बड़ा झटका! RBI ने लिया बड़ा फैसला

मूडीज  ने कही ये बात
गोल्डमैन सॉक्स ने एक अनुमान के तहत कहा है कि चालू वित्तवर्ष में भारत की अर्थव्यवस्था में 10.3 फीसदी की गिरावट भी दर्ज की जा सकती है। फर्म ने भारत की जीडीपी वित्तवर्ष 2021-22 में 13 फीसदी की रफ्तार से आगे बढ़ने की भी बात कही है। इसके साथ ही फर्म ने कहा है कि यह दुनिया में सबसे तेज रफ्तार से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था होगी। वहीं दूसरी और वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भी हाल ही में चालू वित्तवर्ष के लिए भारत की विकास दर अनुमान में सुधार किया था। दरअसल, सभी रेटिंग एजेंसियों की रिपोर्ट की बात करें को उनका कहीं न कहीं मानना है कि वित्तवर्ष की दूसरी छमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी देखी जा सकती है। 

2021 तक सभी बैंक खातों को आधार से जोड़ा जाएगा, वित्त मंत्री ने बैंकों को दिए गए निर्देश

अर्थव्यवस्था की हालत में जोरदार सुधार- वित्त मंत्री
वहीं दूसरी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि एक लंबे और कड़े लॉकडाउन के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था की हालत में जोरदार सुधार देखने को मिल रहा है। उन्होंने अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए कुछ और प्रोत्साहनों की घोषणा करने के लिए आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि व्यापक आर्थिक संकेतक हालात में सुधार की ओर इशारा कर रहे हैं।

 

comments

.
.
.
.
.