Monday, May 10, 2021
-->
India said nepal for ban on illegal activity of Nepali citizens in india sohsnt

भारत ने नेपाल को किया अलर्ट, कहा- कालापानी इलाके में अपने नागरिकों की 'अवैध' आवाजाही पर लगाओ रोक

  • Updated on 7/30/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत का पड़ोसी देश नेपाल चीन के इशारे पर इन दिनों भारत के खिलाफ विरोधी रुख अपनाए हुए है। ऐसे में भारत ने नेपाल से कहा है कि वह भारतीय क्षेत्र कालापानी, लिम्पियाधुरा, लिपुलेख और गुंजी में अपने नागरिकों की 'अवैध' आवाजाही को रोके। 

जानिए, भारत के लिए राफेल विमान के क्या हैं मायने और अंबाला में क्यों की गई तैनाती?

नेपाली प्रशासन को लिखा गया पत्र
मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, इस महीने की शुरूआत में नेपाली प्रशासन को लिखे एक पत्र में भारतीय अधिकारी ने कहा कि नेपाली लोग समूह में 'अवैध' तरीके से इन क्षेत्रों में प्रवेश करना चाहते हैं, जिससे दोनों देशों के लिए परेशानी पैदा होगी। हिमालयन टाइम्स ने खबर दी है कि उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में धारचुला के उप जिला आयुक्त अनिल शुक्ला ने 14 जुलाई को लिखे पत्र में नेपाली प्रशासन से ऐसी गतिविधियों की सूचना भारतीय अधिकारियों से साझा करने का भी आग्रह किया।

हिंदुस्तान की जमीन पर राफेल की हैप्पी लैंडिंग, रक्षा मंत्री बोले- नए युग की शुरुआत

नेपाल ने कही ये बात
नेपाल के दारचुला के मुख्य जिला अधिकारी शरद कुमार पोखरेल के हवाले से अखबार में दी गई जानकारी में कहा गया, हमें, नेपालियों को (भारतीय) क्षेत्रों में जाने से रोकने के भारत के फैसले के बारे में एक पत्र मिला है और कॉल आया है।अखबार ने कहा कि अपने जवाब में नेपाली अधिकारियों ने कहा कि कालापानी, लिम्पियाधुरा और गुंजी में उसके नागरिकों की आवाजाही 'स्वाभाविक' है, क्योंकि ये क्षेत्र नेपाल से संबंधित हैं।

न्यूजीलैंड ने तोड़ी हांगकांग के साथ प्रत्यर्पण संधि, सुरक्षा कानून का दिया हवाला

भारत-नेपाल सीमा पर अलर्ट जारी

दरअसल, भारत-चीन सीमा तनाव के पहले से ही नेपाल चीन के इशारे पर भारत विरोधी बयान देता आ रहा है। ऐसे में भारत-नेपाल सीमा पर इन दिनों अलर्ट की स्थिति बनी बनी हुई है। वहीं दूसरी ओर भारतीय सीमा पर आयोध्या में मंदिर निर्माण को लेकर 5 अगस्त को होने जा रहे भूमि पूजन के कारण अलर्ट की स्थिति है

comments

.
.
.
.
.