Tuesday, Dec 07, 2021
-->
india-should-return-1-4-billion-respects-award-of-arbitration-cairn-energy-prshnt

पंचाट के फैसले का सम्मान करे भारत, 1.4 अरब डॉलर लौटाए: केयर्न एनर्जी

  • Updated on 3/8/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। ब्रिटेन (Britain) की ऊर्जा क्षेत्र की कम्पनी केयर्न एनर्जी (Cairn Energy) पी.एल.सी. चाहती है कि भारत को पिछली तारीख से कराधान मामले में अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण के फैसले का सम्मान करना चाहिए और उसे 1.4 अरब डॉलर लौटाने चाहिए। केयर्न एनर्जी ने कहा कि उसके शेयरधारक चाहते हैं कि कम्पनी भारत सरकार से 1.4 अरब डॉलर की वसूली के लिए मजबूत प्रवर्तन अधिकारों का इस्तेमाल करे। कम्पनी के शेयरधारकों में दुनिया के कई शीर्ष वित्तीय संस्थान शामिल हैं। 

आज से शुरु होगा दिल्ली सरकार का बजट सत्र, उप-राज्यपाल अनिल बैजल देंगे अभिभाषण

भारत सरकार की संपत्तियां जब्त करने की कार्रवाई की दिशा में पहला कदम 
केयर्न ने 21 दिसम्बर के अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण के फैसले को लेकर अमरीका, ब्रिटेन, नीदरलैंड, कनाडा, फ्रांस, सिंगापुर, जापान, संयुक्त अरब अमीरात (यू.ए.ई.) तथा केमैन आइलैंड की अदालतों में अपील दायर की है। यह विदेशों में भारत सरकार की सम्पत्तियों मसलन बैंक खातों, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों को भुगतान, विमानों और जहाजों को जब्त करने की कार्रवाई की दिशा में पहला कदम है।

सरकार यदि केयर्न के खिलाफ 10,247 करोड़ रुपए की कर की मांग के संबंध में कम्पनी के जब्त करके बेच दिए गए शेयरों का दाम, जब्त लाभांश तथा वापस नहीं किए गए कर रिफंड को लौटाती नहीं है, तो केयर्न ऐसा कदम उठा सकती है। 

भाजपा में शामिल होते ही मिथुन चक्रवर्ती ने दिखाए तेवर, बोले- मैं एक कोबरा हूं...

सर्वमान्य समाधान के लिए 3 दौर की हो चुकी है बात
कुछ दिनों पहले वित्त मंत्रालय के अधिकारियों की केयर्न के प्रतिनिधियों के साथ इस विवाद के सर्वमान्य समाधान के लिए 3 दौर की बात हो चुकी है। इस बातचीत में केयर्न के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सी.ई.ओ.) साइमन थॉमसन ने भी भाग लिया है। केयर्न ने ट्विटर पोस्ट में लिखा है, हमारे शेयरधारकों की स्थिति पर निगाह है। वे चाहते हैं कि भारत पंच निर्णय का सम्मान करते हुए इस मामले को समाप्त करे। यदि भारत की ओर से इसमें देरी की जाती है, तो हमारे शेयरधारक हमसे प्रवर्तन के मजबूत अधिकारों के इस्तेमाल की उम्मीद कर रहे हैं।

विधानसभा चुनाव के बीच संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण सोमवार से

खिलौनों की खरीद को बढ़ने की तैयारी
बता दें कि दूसरी ओर स्वीडन की दिग्गज कंपनी आइकिया ने ऐलान किया है कि वह भारत से आने वाले खिलौनों की खरीद को बढ़ाएगी। बता दें कंपनी ने कहा अभी वह भारत से रुई के सॉफ्ट ट्यॉज ही खरीदते हैं मगर अब कंपनी लकड़ी और अन्य तरह के खिलौनों का विस्तार करने की सोच रही है। कंपनी ने अपनी कमाई का 12 प्रतिशत बच्चों की श्रंखला से हांसिल करने का लक्ष्य रखा है।  

मेरठ में किसान महापंचायत में प्रियंका बोलीं- जब तक दम है, तब तक लड़ूंगी 

1000 से अधिक हैं उत्पाद
स्वीडन की फर्नीचर क्षेत्र की दिग्गज कंपनी आइकिया यहां अपने परिचालन के विस्तार के लिए भारत से खिलौनों की खरीद बढ़ाने की तैयारी कर रही है। बच्चों की श्रृंखला के तहत अभी कंपनी के 1,000 से अधिक उत्पाद हैं।आइकिया इंडिया का लक्ष्य अगले वर्षों में अपनी बिक्री का 12 प्रतिशत बच्चों की श्रृंखला  से हासिल करने का है। इसी को ध्यान रखते हुए कंपनी ने भारत की खेल प्रदर्शनी में हिस्सा लिया था। कंपनी ने वहां अपने खिलौनों का प्रदर्शन भी किया था। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.