Thursday, Feb 27, 2020
india stand on kashmir issue, said turkish presiden do not interfere

तुर्की राष्ट्रपति ने कश्मीर पर दिया बयान तो भड़का भारत, कहा- आंतरिक मामले में ना दें दखल

  • Updated on 2/15/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत सरकार ने पाकिस्तानी संसद में तुर्की (Turkey) के राष्ट्रपति के संबोधन में कश्मीर का मुद्दा उठाने और इस मसले पर पाकिस्तान (Pakistan) के रुख का समर्थन करने पर तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की है। विदेश मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर के सभी संदर्भों को खारिज करते हुए कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है। तुर्की भारत के मामले में हस्तक्षेप ना करे।

FATF की बैठक से पहले आतंकी हाफिज सईद की जेल पर भारत ने उठाए सवाल

विदेश मंत्रालय का बयान
तुर्की (Turkey) के राष्ट्रपति और तुर्की-पाकिस्तान संयुक्त घोषणा द्वारा जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) के संदर्भ में विदेश मंत्रालय (MEA) के प्रवक्ता रवीश कुमार (Raveesh Kumar) ने कहा कि भारत (India) जम्मू-कश्मीर के सभी संदर्भों को अस्वीकार करता है, जो भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा है। मंत्रालय ने कहा कि हम तुर्की नेतृत्व अनुरोध करते हैं कि वह भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे। साथ ही अनुरोध करते हैं कि वह भारत के लिए पाकिस्तान से पैदा होने वाले आतंकवाद के खतरे सहित सभी तथ्यों की सही समझ विकसित करे।

तुर्की ने फिर दिया भारत विरोधी बयान , कहा- कश्मीर में हो रहा जुल्म, देंगे पाक का साथ

एर्दोआन ने फिर उठाया कश्मीर का मुद्दा
दरअसल, भारत की आपत्ति के बावजूद तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने शुक्रवार को एक बार फिर कश्मीर मुद्दा उठाया और कहा कि उनका देश इस मामले में पाकिस्तान के रुख का समर्थन करेगा क्योंकि यह दोनों देशों से जुड़ा विषय है। दो दिन की यात्रा पर यहां पहुंचे एर्दोआन ने पाकिस्तान की संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए ऐलान किया कि तुर्की इस सप्ताह पेरिस (Paris) में वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (FATF) की ग्रे सूची से बाहर होने के पाकिस्तान के प्रयासों का समर्थन करेगा।

कोरोना वायरस का कहर जारी, चीन में 1,500 से अधिक लोगों की मौत

संसद में कश्मीर पर पाकिस्तान के रुख का किया समर्थन
उन्होंने एफएटीएफ की आगामी बैठक के संदर्भ में कहा था, 'मैं इस बात पर भी जोर देना चाहता हूं कि हम एफएटीएफ की बैठकों में राजनीतिक दबाव के संदर्भ में पाकिस्तान का समर्थन करेंगे।' कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान के रुख पर अपने देश का समर्थन दोहराते हुए एर्दोआन ने कहा था कि इसे संघर्ष या दमन से नहीं सुलझाया जा सकता बल्कि न्याय और निष्पक्षता के आधार पर सुलझाना होगा।

भारत यात्रा को लेकर बेहद उत्साहित हूं : मेलानिया ट्रंप 

पूरे भाषण भारत विरोधी दिया
उन्होंने पिछले साल अगस्त में जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने के भारत के फैसले के परोक्ष संदर्भ में कहा था, 'हमारे कश्मीरी भाइयों बहनों ने दशकों तक परेशानियां झेली हैं और हाल के समय में लिए गए एकपक्षीय कदमों के कारण समस्याएं और बढ़ गई हैं।' तुर्क राष्ट्रपति ने कहा, 'आज कश्मीर का मुद्दा हमारे उतना ही करीब है जितना आपके (पाकिस्तान के)।' उन्होंने कहा, 'ऐसा समाधान सभी संबंधित पक्षों के हित में होगा। तुर्की कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए न्याय, शांति और संवाद के साथ खड़ा रहेगा।'

अमेरिकी विशेषज्ञों ने कहा, डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा होगी पूरी तरह सफल

UN में पहले भी उठाया कश्मीर मुद्दा
एर्दोआन ने अपने भाषण में कश्मीरियों के संघर्ष की तुलना प्रथम विश्व युद्ध में अपने देश के संघर्ष से की। उन्होंने पिछले साल सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा में भी अपने भाषण में कश्मीर का मुद्दा उठाया था। संयुक्त राष्ट्र में एर्दोआन के बयान पर प्रतिक्रिया करते हुए भारत ने कहा था कि उसे कश्मीर पर तुर्की के बयान पर गहरा अफसोस है और यह उसका आंतरिक मामला है।    

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.