Friday, Dec 06, 2019
India strong response to China said restructuring of Jammu and Kashmir is our internal matter

चीन को भारत का करारा जवाब, कहा- जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हमारा आंतरिक मामला

  • Updated on 10/31/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के फैसले पर आपत्ति को लेकर चीन (Chaina) पर पलटवार करते हुए भारत (India) ने बृहस्पतिवार को कहा कि पुनर्गठन पूरी तरह उसका आंतरिक मामला है तथा वह ऐसे विषयों पर अन्य देशों से टिप्पणी की अपेक्षा नहीं करता। भारत ने यह भी कहा कि चीन ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्रशासित प्रदेशों के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर रखा है।

मार्क जुकरबर्ग बोले- फेसबुक नहीं लगाएगी राजनीतिक विज्ञापनों पर रोक

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार के हवाले से एक बयान में कहा गया, ‘‘उसने 1963 के तथाकथित चीन-पाकिस्तान सीमा समझौते के तहत पाकिस्तान (pakistan) के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के भारतीय क्षेत्रों पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है।’’ केंद्र सरकार ने पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त करने का फैसला किया था तथा जम्मू कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने की घोषणा की थी।

राजनाथ सिंह ताशकंद में SCO बैठक में करेंगे भारत का प्रतिनिधित्व

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने बृहस्पतिवार को बीजिंग में मीडिया से कहा कि ‘‘भारत ने एकपक्षीय तरीके से अपने घरेलू कानूनों तथा प्रशासनिक विभाजन को बदल लिया और चीन की संप्रभुता को चुनौती दी। उन्होंने कहा, ‘‘यह गैरकानूनी है तथा किसी भी तरीके से प्रभावी नहीं है। यह इस तथ्य को नहीं बदलेगा कि क्षेत्र चीन के वास्तविक नियंत्रण में है। 

प्रियंका चतुर्वेदी समेत शिवसेना की दो महिला नेताओं को गोली मारने की धमकी

चीन के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कुमार ने कहा कि बीजिंग को इस विषय पर भारत के सतत तथा स्पष्ट रुख की भलीभांति जानकारी है। उन्होंने कहा, ‘‘पूर्ववर्ती जम्मू कश्मीर राज्य का जम्मू कश्मीर और लद्दाख केंद्रशासित प्रदेशों में पुनर्गठन का विषय पूरी तरह भारत का आंतरिक मामला है।

comments

.
.
.
.
.