Tuesday, Jan 25, 2022
-->
india will import 5 million tonnes of lng annually from america

अमेरिका से सालाना 50 लाख टन LNG आयात करेगा भारत

  • Updated on 9/23/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अमेरिका (America) से भारत (India) सालाना 50 लाख टन तरलीकृत प्राकृतिक गैस (LNG) का आयात करेगा। इसके लिए भारत की निजी क्षेत्र की कंपनी पेट्रोनेट एलएनजी लि. (PLL) का अमेरिका की प्राकृतिक गैस कंपनी टेल्यूरियन इंक के साथ समझौता हुआ है। शनिवार को यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अमेरिका के तेल तथा गैस क्षेत्र की कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) के साथ बैठक की। 

PM मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप को बताया विशेष शख्सियत, उनके योगदान की सराहना की

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार (RAVISH KUMAR) ने बताया कि अमेरिका की प्राकृतिक गैस कंपनी टेल्यूरियन इंक और भारत की पीएलएल ने एक सहमति ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। इसके तहत पीएलएल और उसकी सहायक इकाइयां अमेरिका से सालाना 50 लाख टन एलएनजी का आयात करेंगी। रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि आते ही सीधे काम शुरू। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ह्यूस्टन में ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ अभी एक सफल गोलमेज बैठक सम्पन्न की। बातचीत भारत और अमेरिका के बीच ऊर्जा सुरक्षा के लिए साथ मिलकर काम करने और साझा निवेश के अवसरों को बढ़ाने पर केन्द्रित थी। 

ह्यूस्टन में बोले PM मोदी, धैर्य हमारी पहचान, लेकिन अब हम अधीर हैं

इससे पहले प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने अमरीका के कई शीर्ष पेट्रोलियम कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ मोदी की तस्वीरें ट्ववीटर पर साझा की। पीएमओ ने साथ ही लिखा कि भारत और अमरीका की दोस्ती को और मजबूत करते हुए। ह्यूस्टन में पहली बैठकों में से एक प्रधानमंत्री ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ। भारत और अमेरिका इस क्षेत्र में सहयोग में विविधता लाना चाहता है।   

Howdy Modi' कार्यक्रम में शामिल न होने पर तुलसी गबार्ड ने PM मोदी को कहा 'Sorry' 

इन कंपनियों के सीईओ थे बैठक में

एयर प्रोडक्ट्स, बाकर ह्यूजेस, बीपी पीएलसी, चेनियर एनर्जी, डोमिनियन एनर्जी, इमर्सन इलेक्ट्रिक कंपनी, एक्सॉनमोबिल, पेरट ग्रुप एंड हिलवुड, आईएचएस माॢकट, लायडलबासेल इंडस्ट्रीज, मैकडरमॉट, श्लमबर्जर, टेल्यूरियन इंक, टोटल एसए, विन्मर इंटरनेशनल और वेस्टलेक केमिकल्स आदि कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी बैठक शामिल हुए। रवीश कुमार ने बताया कि बैठक में 17 वैश्विक ऊर्जा कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शामिल हुए। इन कंपनियों की उपस्थिति 150 देशों में है और इनका सामूहिक नेटवर्थ 1,000 अरब डॉलर है। ये सभी कंपनियों किसी न किसी रूप में भारत से जुड़ी हैं।

भारत-अमेरिका शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में योगदान दे सकते हैं: PM मोदी 

क्या है एलएनजी

तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) असल में प्राकृतिकरूप से मिलने वाली मीथेन गैस है, जिसमें ईथेन गैस की भी कुछ मात्रा होती है। इसे उच्चदाब पर ठंडा करने पर यह तरल में बदल जाती है। तरल अवस्था में इसे ट्रांसपोर्ट करना आसान हो जाता है। एलएनजी का इस्तेमाल वाहनों में पेट्रोल-डीजल के विकल्प के रूप में भी किया जाता है। 

RSS प्रमुख मोहन भागवत का बयान, कहा- एक भी हिंदु को देश छोड़कर नहीं जाना पड़ेगा

2.5 अरब डॉलर का सौदा 

टेल्यूरिन और पीएलएल के बीच यह सौदा करीब 2.5 अरब डॉलर का बताया जाता है। दोनों कंपनियों का इरादा इस करार को 31 मार्च, 2020 तक अंतिम रूप देने का है। सौदे की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शनिवार को अमरीका की शीर्ष पेट्रोलियम कंपनियों के मुख्य कार्यकारियों (सीईओ) के साथ हुई बैठक के बाद की गई। टेल्यूरियन के अध्यक्ष एवं सीईओ मेग जेंटल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी में इस एमओयू पर दस्तखत सम्मान की बात है। हम पेट्रोनेट के साथ ड्रिफ्टवुड परियोजना में एक लंबी और समृद्ध भागीदारी की उम्मीद कर रहे हैं। पेट्रोनेट भारत की सबसे बड़ी एलएनजी आयातक है।

comments

.
.
.
.
.