Thursday, Apr 09, 2020
indian-air-force-save-indians-from-corona-virus-to-china-and-japan

Corona Virus: चीन और जपान से दिल्ली लाए गए भारतीय

  • Updated on 2/27/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) का एक विमान कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के वुहान (Wuhan) शहर से 76 भारतीयों और 36 विदेशी नागरिकों को आज भारत लेकर आया है। सी-17 ग्लोबमास्टर विमान चीन में कोरोना वायरस प्रभावित लोगों के लिए 15 टन चिकित्सकीय सामग्री लेकर बुधवार को वुहान भेजा गया था।

दिल्ली हिंसा मामलों की सुनवाई करने वाले जस्टिस मुरलीधर का तबादला, उठे सवाल

वुहान से आय 650 भारतीय
विमान चीन से लौटते समय बांग्लादेश (Bangladesh) के 23 नागरिकों, चीन के छह नागरिकों, म्यांमार एवं मालदीव के दो-दो और दक्षिण अफ्रीका (South Africa), अमेरिका एवं मेडागास्कर के एक-एक नागरिक समेत 112 लोगों को लेकर आया। इससे पहले, भारत एअर इंडिया (Air India) के दो विमानों के जरिए वुहान से करीब 650 भारतीयों को लाया था। विदेश मंत्रालय ने कहा, 'इन तीन उड़ानों के जरिए चीन से वुहान से कुल 723 भारतीय और 43 विदेशी नागरिकों को बाहर निकाला गया है।'

दिल्ली: आपका भी करीबी हुआ है हिंसा का शिकार तो इन नंबर पर कॉल कर पाए जानकारी

उसने चीन में चिकित्सकीय सामग्री पहुंचाए जाने पर कहा कि भारत कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण को नियंत्रित करने के चीनी प्रयासों में उसकी मदद करेगा।  मंत्रालय ने कहा, 'यह सहायता चीन के लोगों के प्रति भारत के लोगों की एकजुटता और मित्रता का भी प्रतीक है। दोनों देश इस साल राजनयिक संबंध स्थापित होने की 70वीं वर्षगांठ भी मना रहे हैं।'

मनोज तिवारी बोले- IB अधिकारी की हत्या के पीछे गहरी साजिश

जपान को वायरस का दर
कोरोना वायरस के दर से जापान के तट पर कई दिनों से अलग खड़े ‘डायमंड प्रिंसेस’ क्रूका पर सवार 119 भारतीयों और पांच विदेशी नागरिकों को लेकर ‘एअर इंडिया’ का विमान भारत पहुंचा। ‘एअर इंडिया’ का विशेष विमान जिन पांच विदेशी नागरिकों को लेकर वापस लौटा है, उनमें दो श्रीलंकाई  और नेपाल (Nepal), दक्षिण अफ्रीका और पेरू के एक-एक नागरिक हैं।

दिल्ली में हिंसा का गदर उजाड़ गया कई जिंदगी

इन सभी को मानेसर में भारतीय सेना द्वारा बनाए गए चिकित्सा केन्द्र में 14 दिन तक पृथक रखा जाएगा। सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार विमान के चालक दल के तीन सदस्य विशेष विमान में सवार नहीं हुए। जापान सरकार ने पृथक करने की अवधि बढ़ा दी है और इस अवधि में वे क्रूज पर ही रहेंगे। यह फैसला उन्होंने अपनी मर्जी से लिया है।  

 

 

comments

.
.
.
.
.