Tuesday, Nov 30, 2021
-->
indian-army-has-not-been-able-go-depsang-last-15-years-prsgnt

पिछले 15 साल से डेपसांग में नहीं जा पाई है भारतीय सेना, अब चीन का दखल हुआ!

  • Updated on 9/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत-चीन के बीच बढ़े तनाव के बीच जहां दोनों ही देशों में बातचीत के आसार बनाये जा रहे हैं वहीँ भारत की स्थिति को मौजूदा समय में देखा जा रहा है। हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट के अनुसार भारत ने डेपसांग में अब तक कोई भी क्षेत्र नहीं गंवाया है लेकिन ये भी बताया गया है कि भारतीय सेना यहां पिछले 10-15 सालों से नहीं जा पा रही है। 

इस रिपोर्ट में ये दावा किया गया है कि चीन ने अपनी सेना की टुकड़ियों को भेज कर डेपसांग के हिस्से में भारतीय सेना की गश्त को रोक दिया है। 

1962 की तरकीब आजमा रहा चीन, LAC पर लाउडस्पीकर से बजा रहा पंजाबी गाने, जानें क्यों?

डेपसांग पर चीन
रिपोर्ट का दावा है कि डेपसांग इलाके में चीनियों ने अपनी दो ब्रिगेड तैनात कर दी है जिससे भारतीय सेना का पैट्रोलिंग पॉइंट पीपी 10 से लेकर 13 तक का संपर्क टूट गया है और ये भी बताया गया है कि चीन ने इस हरकत को अंजाम तक दिया था जब उसने भारतीय सेना के सात पिछले दिनों हुई झड़प को अंजाम दिया था। 

चीन विवाद पर राहुल गांधी ने समझाई क्रोनोलॉजी और पूछा- मोदी सरकार को डर किस बात का है?

अहम है डेपसांग 
बताते चले कि भारत के लिए डेपसांग बेहद अहम है। डेपसांग जिस जगह है वहां पूर्व में काराकोरम पास के नजदीक स्थित दौलत बेग ओल्दी पोस्ट से महज 30 किलोमीटर दूर है, कूटनीतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही ये लद्दाख में एकमात्र ऐसी जगह है जहां की पहाड़ी धरती की जमीन बिल्कुल समतल है।

भारत और जापान ने किया ऐतिहासिक समझौता, बढ़ेगी चीन की टेंशन, पढ़े रिपोर्ट

भारत के लिए मुश्किल
रिपोर्ट में दावा किया गया है कि चीन ने डेपसांग में अपनी दो ब्रिगेड तैनात की हैं और 10 से 13 पीपीएस तक भारतीय सेना की पहुंच को कम किया है। यहां सबसे जरूरी जिस बात पर गौर किया जाना चाहिए वो ये हैं कि पिछले 15 सालों से भारत डेपसांग क्षेत्र की वास्तविक नियंत्रण रेखा तक नहीं पहुंच पाया है। इस क्षेत्र का वर्ग 972 किमी तक फैला है।

हालांकि भारतीय सेना मार्च में गश्त की सीमा तक पहुंचे सकते हैं लेकिन इस बीच चीन ने अप्रैल से ही इस पहुंच को रोक दिया है। अब भारतीय सेना के लिए ये क्षेत्र मुश्किल हो गया है।

यहां पढ़ें भारत-चीन विवाद से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.