Wednesday, Apr 08, 2020
indian stock market sensex and nifty 25th march india coronavirus lockdown

लॉकडाउन: सेंसेक्स 600 अंकों से अधिक की बढ़त के साथ खुला, बरकरार नहीं रह सकी तेजी

  • Updated on 3/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के कोरोना वायरस (Coronavirus) पर काबू पाने के लिए कठोर उपायों के तहत 21 दिन की देशव्यापी पूर्ण बंदी की घोषणा के बीच शेयर बाजार (Share Market) में प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स (Sensex) बुधवार को शुरुआती कारोबार में 600 अंकों से अधिक बढ़त के साथ खुला, लेकिन बाजार अपनी ये बढ़त बरकरार नहीं रख सका।

लॉकडाउन का पहला दिन: Social Distancing के साथ सामान खरीदते हुए दिखे लोग

शेयर बाजार में बढ़त
इस बीच दुनिया भर में इस महामारी से लड़ने के प्रयासों से एशियाई बाजार में देखी देखने को मिली। कारोबारियों ने कहा कि हालांकि दुनिया भर में बंदी के असर से निवेशक चिंतित हैं। शुरुआती कारोबार में बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) 625.41 अंकों की तेजी दर्ज करने के बाद खबर लिखे जाने तक 157.91 अंक या 0.59 प्रतिशत की गिरावट के साथ 26,516.12 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह, एनएसई निफ्टी (NSE Nifty) 30.30 अंक या 0.39 प्रतिशत की गिरावट के साथ 7,770.75 पर कारोबार कर रहा था।

कोरोना संकट के बीच आज वाराणसी की जनता से मुखातिब होंगे PM मोदी

इन शेयरों में आई तेजी
सेंसेक्स की बात करें तो रिलायंस इंडस्ट्रीज में सबसे अधिक सात फीसदी की बढ़त देखने को मिली। इसके अलावा नेस्ले इंडिया, टेक महिंद्रा, एचडीएफसी, पावरग्रिड और एचयूएल में भी तेजी रही।

देश में हुए लॉकडाउन के मद्देनजर रेल सेवाएं अब 14 अप्रैल तक रहेंगी बंद

इन शेयरों में आई गिरावट
दूसरी ओर इंडसइंड बैंक, आईटीसी, एलएंडटी और आईसीआईसीआई बैंक गिरने वाले प्रमुख शेयर थे।

देश में लॉक डाउन के बीच SC में वीडियो कांफ्रेंसिंग से आज होगी 15 मामलों की सुनवाई

देश में 21 दिन तक लॉकडाउन
कारोबारियों के मुताबिक निवेशक मंगलवार रात घोषित 21 दिन के लॉकडाउन (Lockdown) के आर्थिक प्रभावों का आंकलन कर रहे हैं। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए एक अभूतपूर्व कठोर फैसले के तहत मोदी ने मंगलवार आधी रात से 21 दिन तक देशव्यापी पूर्ण बंदी का ऐलान किया था। इसके साथ ही उन्होंने इस बीमारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए 15,000 करोड़ रुपये आवंटित करने की घोषणा भी की। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार के अनुसार 21 दिन की बंदी लागू करना एक बड़ी चुनौती है। सभी घरों में आपूर्ति सुनिश्चित करना आसान नहीं है, लेकिन ऐसा करना जरूरी है। इसके चलते अर्थव्यवस्था को अस्थायी रूप से एक बड़ा झटका लगेगा।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें 

क्या अखबार पढ़ने से हो सकता है कोरोना का संक्रमण? जानिए क्या कहता है WHO

भारत में लॉकडाउन: PM नरेंद्र मोदी बोले- कोरोना वीरों के लिए मां से करूंगा प्रार्थना

लॉकडाउन: Flipkart यूजर्स के लिए बुरी खबर, कंपनी ने बंद की ये Services

देश में हुए लॉकडाउन के मद्देनजर रेल सेवाएं अब 14 अप्रैल तक रहेंगी बंद

सामने आई Coronavirus की सबसे बड़ी कमजोरी, अब आपके पास नहीं भटकेगा ये वायरस

कोरोना वायरस : जानिए आखिर क्या है 21 दिनों के लॉकडाउन के पीछे का लॉजिक

21 दिनों के लॉकडाउन में घर पर रह कर न हों परेशान, सरकार दे रही है आपको ये सुविधाएं

लॉकडाउन का पहला दिन: Social Distancing के साथ सामान खरीदते हुए दिखे लोग

कोरोना संकट के बीच आज वाराणसी की जनता से मुखातिब होंगे PM मोदी

Corona Virus के दौरान न करे इस दवा का सेवन! हो सकती है मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.