Wednesday, Jan 26, 2022
-->
indian stock market sensex and nifty friday 28th february 2020 coronavirus

बेहाल हुआ शेयर बाजार, निवेशकों को लगी 5 लाख करोड़ रुपये से अधिक की चपत

  • Updated on 2/28/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वैश्विक अर्थव्यवस्था (Economy) पर कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के असर की आशंका के कारण वैश्विक स्तर पर जारी बिकवाली के बीच शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स (Sensex) में 1,100 अंक से अधिक की गिरावट दर्ज की गई। इस भारी गिरावट के कारण शुक्रवार को कारोबार के कुछ ही देर में निवेशकों को पांच लाख करोड़ रुपये से अधिक की चपत लग गई।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयर वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स (BSE Sensex) शुरुआती कारोबार में 1163 अंक यानी 2.93 प्रतिशत गिरकर 38,582.66 अंक पर चल रहा था। इसी तरह, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का 50 शेयर वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी (NSE Nifty) भी 350.35 यानी 3.01 प्रतिशत गिरकर 11,282.95 अंक पर चल रहा था।

दिल्ली हिंसा: CAA विरोधी प्रदर्शनों का निवेशकों की धारणा पर नहीं पड़ा असर- सीतारमण

BSE में भारी गिरावट
सेंसेक्स की सभी 30 कंपनियों के शेयर गिरावट में चल रहे थे। टाटा स्टील, टेक महिंद्रा, इंफोसिस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बजाज फाइनेंस, एचसीएल टेक और रिलायंस इंडस्ट्रीज में आठ प्रतिशत तक की गिरावट देखने को मिली। गुरुवार को सेंसेक्स 143.30 अंक यानी 0.36 प्रतिशत गिरकर 39,745.66 अंक पर और निफ्टी 45.20 अंक यानी 0.39 प्रतिशत टूटकर 11,633.30 अंक पर बंद हुआ था।

कोरोना वायरस से वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर पर पड़ सकता है 250 अरब डॉलर का प्रभाव: उद्योग मंडल

विश्लेषकों के अनुसार, निवेशकों का पिछले सप्ताह तक मानना था कि यदि चीन ने कोरोना वायरस के संक्रमण पर काबू पा लिया तो वैश्विक अर्थव्यवस्था पर इस आपदा का मामूली असर पड़ेगा। लेकिन संक्रमित लोगों के नए मामले सामने आते जाने से निवेशकों की धारणा बदली है और वे आर्थिक नरमी को लेकर चिंतित हो उठे हैं। इसके साथ ही विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) की बिकवाली जारी रहने से भी बाजार पर दबाव है।

प्राथमिक आंकड़ों के अनुसार, गुरुवार को एफपीआई ने 3,127.36 करोड़ रुपये की शुद्ध बिकवाली की। एशियाई बाजारों में चीन के शंघाई कंपोजिट, हांगकांग के हैंगसेंग, दक्षिण कोरिया के कोस्पी और जापान के निक्की में चार प्रतिशत तक की गिरावट चल रही थी। अमेरिका का डाउ जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज गुरुवार को 1,190.95 अंक गिरकर बंद हुआ था। यह डाउ जोन्स के इतिहास में सबसे बड़ी एकदिवसीय गिरावट है।

ऊंचे दाम पर भी पुराना गोल्ड नहीं बेच रहे लोग

33 पैसे गिरा रुपया
घरेलू शेयर बाजारों में भारी बिकवाली तथा विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) की जारी निकासी के कारण शुक्रवार को अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में शुरुआती कारोबार में रुपया 33 पैसे गिर गया। कारोबारियों ने कहा कि शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में 11 सौ अंक से अधिक की गिरावट के कारण निवेशक सतर्कता बरत रहे हैं। रुपया गिरकर 71.90 रुपये प्रति डॉलर पर खुला और कुछ ही देर में 71.94 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया।

यह पिछले दिवस की तुलना में 33 पैसे की गिरावट है। गुरुवार को भारतीय मुद्रा 71.61 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुई थी। कारोबारियों ने कहा कि कोरोना वायरस से वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ सकने वाले असर को लेकर निवेशकों में चिंताएं हैं। इसके अलावा एफपीआई की बिकवाली जारी रहने से भी रुपये पर दबाव है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.