पूरी दुनिया में सबसे कम छुट्टियां ले पाते हैं भारतीय, जाने क्यों?

  • Updated on 11/23/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूरी दुनिया में दफ्तरों में दिन रात पसीना बहाकर लोग काम कर रहे हैं और इसके बाद भी कर्मचारियों की जरुरत के हिसाब से छुट्टियां नहीं दे पा रहा है। छुट्टियों की इस तरह की कमी का शिकार सबसे ज्यादा भारतीय हैं। एक्सपीडिया ने एक शोध किया जिसमें कई देश के लोगों को इसमें शामिल किया। कुल 19 देशों ने इसमें हिस्सा लिया और पता लगाया की पूरी दुनिया में लोगों की छुट्टियां का क्या हिसाब है।

सर्वेक्षण के दौरान सभी से कैसे अपनी छुट्टियों से वंचित हैं, और वे किस प्रकार से अपनी छुट्टियां बिताते हैं, क्या वे अपनी छुट्टियों का मजा लेते हैं या काम करना पसंद करते हैं, छुट्टियां बिताने के लिए अपराध-बोध तो महसूस नहीं करते और क्या अपनी छुट्टियों का फैसला करते समय काम के दवाब को ध्यान में रखते हैं, जैसे सवाल पूछे गए। जिसके बाद निकले निष्कर्श में सामने आया कि पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा भारतीय ही छुट्टियों की कमी महसूस करते हैं। 

इसके बाद दक्षिण कोरिया और हांगकांग के लोग छुट्टियों से वंचित हो जाते हैं। शोध में सामने आया कि लगभग 53 फीसदी भारतीयों को कम छुट्टी मिलती है। वहीं 35 फीसदी लोगों को छुट्टियां मिलती ही नही है। वहीं 68 फीसदी लोग अपनी छुट्टियां रद्द कर देते हैं। 

इन सबके बीच जिन लोगों शोध बताता है कि करीब 68 फीसदी भारतीय काम के बोझ के कारण अपनी छुट्टियां रद्द कर देते हैं जबकि 19 फीसदी काम के प्रति प्रतिबद्ध दिखेंगे इसलिए छुट्टियां नहीं लेते। वहीं 25 फीसदी इस डर से कि वो किसी महत्वपूर्ण फैसला लेने की प्रक्रिया में शामिल होने से चूक न जाएंगे इसलिए छुट्टी नहीं लेते जबकि 18 फीसदी लोगों का मानना था कि सफल लोग छुट्टियां नहीं लेते। 


 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.