Saturday, Mar 23, 2019

अपनी अनोखी साइकिल से पर्यावरण के प्रति जागरुकता फैला रहे राजीव कुमार

  • Updated on 2/14/2019

नई दिल्ली/आकर्ष शुक्ला। देश-दुनिया के लिए प्रदूषण एक विकराल समस्या बनता जा रहा है। इसके बावजूद विश्वभर के देशों की तमाम सरकारें इस गंभीर मुद्दे पर बिल्कुल भी गंभीर नजर नहीं आ रही हैं। हालांकि कुछ लोग ऐसे भी हैं जो बिना किसी देरी के पर्यावरण प्रदूषण के प्रति लोगों को जागरुक करने में जुट गए हैं।

ऐसे ही एक शख्स हैं राजीव कुमार, जिन्होंने पर्यावरण प्रदूषण पर लोगों को जागरुक करने का बीड़ा उठाया है। 1995 से शुरू हुआ यह सिससिला आज तक अनवरत जारी है। पढ़िये पंजाब केसरी/ नवोदय टाइम्स/ जगबाणी/ हिंद समाचार को दिए उनके इंटरव्यू के कुछ अंश:-

पंजाब के रहने वाले राजीव कुमार को लोग प्यार से 'जॉनी' भी कहते हैं। राजीव कुमार को आपने शायद कभी-न-कभी टेलिविजन के किसी शो में भी देखा होगा। दरअसल यह करते ही कुछ ऐसा हैं, जिस वजह से कैमरे की नजर इनपर पड़ ही जाती है। राजीव कुमार लोगों को वायु प्रदुषण पर जागरुक करने के लिए साइकिल चलाते हैं। हिस्ट्री टीवी चैनल के फेमस शो 'OMG ये मेरा इंडिया' में भी उनके संघर्ष की कहानी को दर्शाया गया था।

प्रदूषण के खिलाफ राजीव ने 'साइकिल टू वर्क सेफ एनवायरनमेंट' नाम से एक अभियान चलाया है। इस अभियान के तहत वह अबतक देश के कई राज्यों का सफर साइकिल पर कर चुके हैं। यहां जो बात बताने वाली है वह यह कि राजीव की साइकिल भी उनके इरादों की तरह सबसे हटके है। राजीव जिस साइकिल से देशभर में दौरे करते हैं उसकी ऊंचाई 9 फीट है, जो किसी भी आम साइकिल से पांच फीट ऊंची है।

Navodayatimes

पुलवामा में आतंकी हमला: कांग्रेस ने मोदी सरकार को लिया आडे़ हाथ

प्रदूषण के खिलाफ जंग
पंजाब में राजीव काफी फेमस हैं, वह जहां भी अपनी साइकिल से निकलते हैं लोग मोबाईल फोन के कैमरे ऑन कर लेते हैं। राजीव देश को अपने अंदाज में प्रदूषण के खिलाफ जंग लड़ने की सीख देना चाहते थे इसके लिए उन्होंने देशभर में साइकिल से भ्रमण करने का एक अभियान चलाया। पिछले चार साल से राजीव का यह अभियान लगातार जारी है।
 
चंडीगढ़ टू मुंबई इवेंट
अपने इसी अभियान के लिए राजीव आज भी साइकिल चला रहे हैं और देशभर में इवेंट कर रहे हैं। फिलहाल राजीव चंडीगढ़ टू मुंबई इवेंट पर हैं, जिसको 7 मेंबर वाली 'गो ग्रीन साइकिल एंड एनवायरमेंट क्लब' द्वारा ऑर्गनाइज किया गया है। अपने इस सफर पर राजीव 30 जनवरी को चंडीगढ़ से मुंबई के लिए निकले हैं, वह अपने सारे इवेंट 9 फीट ऊंची साइकिल पर ही करते हैं। इस अभियान में उनके तीन अन्य साथी संजीव शर्मा (57), शौर्य सागर(13) और अंकुश कुमार (18) उनके साथ हैं।

खुद डिजाइन करते हैं साइकिल
राजीव कुमार ने अपने इंटरव्यू में बताया कि, वह जिस साइकिल से देशभर में इवेंट करते हैं उसे उन्होंने खुद डिजाइन किया है। उन्होंने अपनी सबसे पहली साइकिल साल 1995 में डिजाइन की थी, जिसकी ऊंचाई लगभग 9 फीट थी। इसके बाद उन्होंने इसे अपना पैशन बना लिया और ऐसी ही साइकिलें डिजाइन करने लगे। उन्होंने अबतक कुल 24 साइकिलों को इस रूप मे ढाला है। 

Navodayatimes

शीला दीक्षित को लेकर AAP विधायक ने साधा 'संघियों' पर निशाना

कुछ हटकर करने का था जुनून
राजीव कुमार को बचपन से ही साइकिलिंग का शौक था और वह कुछ इसको लेकर कुछ हटकर करना चाहते थे। राजीव बताते हैं कि जब वह 10वीं कक्षा में थे तभी उनके दिमाग में आम साइकिलों से ऊंची साइकिल डिजाइन करने का विचार आया था। हुआ ये था कि, राजीव को साइकिल चलाना बेहद पसंद था, लेकिन लंबाई ज्यादा होने की वजह से उन्हें साइकिल चलाने के लिए पैरों को ज्यादा मोड़ना पड़ता था। इस समस्या से निपटने के लिए उन्होंने खुद के लिए बाकियों से ऊंची साइकिल डिजाइन की और यहीं से उन्हें कुछ अलग करने का जुनून मिला।

अभिभावकों से अपील
राजीव से जब यह पूछा गया कि उन्होंने साइकिल से ही सबको जागरूक करने का अभियान क्यों चलाया? तो इसपर उन्होंने कहा कि साइकिल से प्रदूषण नहीं होता और साइकिल चलाना सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद है। साथ ही उन्होंने अभिभावकों से अपील की है कि वह अपने बच्चों को साइकिल चलाने के लिए प्रेरित करें ताकि उनकी सेहत और और पर्यावरण दोनों सुरक्षित रहें।

उन्होंने कहा, माता-पिता अपने बच्चों को बचपन से ही गाड़ी की चाभी सौंप देते हैं, जो बच्चों के साथ-साथ सड़क पर चल रही पब्लिक के लिए भी खतरनाक होता है। माता-पिता को अपने बच्चों को साइकिल चलाने के लिए प्रेरित करना चाहिए। उन्होंने युवा पीढ़ी से भी साइकिल चलाने का आह्वान किया। 

Navodayatimes

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश नहीं हैं केजरीवाल, भाजपा ने लिया आडे़ हाथ

राजीव के नाम दर्ज हैं कई रिकॉर्ड
कुछ अलग हट कर करने की चाहत और प्रकृति से प्यार आज राजीव को उस मुकाम पर ले आया है, जिसपर पहुंचने का हर किसी का सपना होता है। राजीव ने अपने अभियान से न सिर्फ लोगों को जागरुक किया बल्कि आपने नाम कई रिकॉर्ड दर्ज कर देश को गौरवान्वित भी किया है। राजीव का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड और यूनिक बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी दर्ज है। राजीव का लक्ष्य है कि वह आगे कुछ ऐसा करें, जिससे उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज हो। इसके अलावा गणतंत्र दिवस के मौके पर परेड में साइकिल चलाने वाले भी राजीव देश के इकलौते इंसान हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.