मुंह का कैंसर होने की संभावना का पता लगाने के लिए भारत ने बनाया उपकरण 

  • Updated on 12/4/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में मुंह के कैंसर के बढ़ते खतरे के प्रति आम लोगों को समय रहते सचेत करने के लिये परमाणु ऊर्जा विभाग के इंदौर स्थित एक प्रमुख वैज्ञानिक संस्थान ने विशेष उपकरण विकसित किया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि यह उपकरण संबंधित व्यक्ति की जांच के महज 15 मिनट के भीतर उसे मुख कैंसर होने की आशंका के बारे में सटीक जानकारी देता है।

मिलिए 2018 के यू-ट्यूब स्टार से, एक साल की कमाई 2.2 करोड़ रुपए

राजा रमन्ना प्रगत प्रौद्योगिकी केंद्र (आरआरसीएटी) में चिकित्सा उपकरणों के विकास से जुड़े विभाग के प्रमुख वैज्ञानिक शोभन कुमार मजुमदार ने यहां संवाददाताओं को बताया कि ऑन्कोडाइग्नोस्कोप नाम का यह उपकरण टैबलेट कम्प्यूटर पर आधारित है और आकार में छोटा होने के कारण आसानी से कहीं भी ले जाया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि ऑन्कोडाइग्नोस्कोप से पेन्सिल के आकार वाली फाइबर ऑप्टिक प्रोब (मेडिकल यंत्र) जुड़ी होती है। इसे संबंधित व्यक्ति के मुंह में डालकर कैंसर की जांच की जाती है जिसका नतीजा मॉनीटर पर दिखायी देता है। मजुमदार के मुताबिक अलग-अलग अस्पतालों और स्वास्थ्य शिविरों में सैकड़ों मरीजों पर ऑन्कोडाइग्नोस्कोप का सफल परीक्षण किया गया है।

5 साल में पूरी की 80 देशों की यात्रा, खर्चे के लिए बेच दिया सबकुछ

उन्होंने दावा किया कि इस उपकरण के जरिये जांच से महज 15 मिनट के भीतर पता चल सकता है कि संबंधित व्यक्ति को मुख कैंसर की आशंका है या नहीं। यह उपकरण मुख कैंसर की जांच के मामले में 90 प्रतिशत तक सही नतीजे देने में सक्षम है।

मजुमदार ने बताया कि करीब 15 साल के सतत अनुसंधान के बाद तैयार उन्नत उपकरण को विकसित करने में आरआरसीएटी को करीब 2.5 लाख रुपये का खर्च आया है। उन्होंने बताया, इस उपकरण की तकनीक को विनिर्माण इकाइयों को स्थानांतरित करने की सरकारी प्रक्रिया जारी है। हमें उम्मीद है कि यह उपकरण आम लोगों के बीच जल्द पहुंचकर कैंसर से जंग में मददगार साबित होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.