Friday, Apr 23, 2021
-->
indigenous-vaccine-trial-of-first-phase-of-cocaine-passed-third-prsgnt

स्वदेशी टीके 'कोवैक्सीन' के पहले चरण का ट्रायल लैसेंट की परीक्षा में हुआ पास, 3 फेज का ट्रायल जारी

  • Updated on 1/22/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) की रोकथाम के भारत के लिए बनाए गए स्वदेशी टीके ‘कोवैक्सीन’ के प्रथम चरण के परीक्षणों में शामिल किये गये लोगों पर इसका कोई गंभीर दुष्प्रभाव नहीं पड़ने और इससे शरीर के इम्युनिटी सिस्टम के बढ़ने का भी पता चला है। 

इस बारे में ‘द लांसेट इंफेक्शियस डिजीज जर्नल’ में प्रकाशित प्रथम चरण के नतीजों में यह दावा किया गया है। यह टीका भारत बायोटेक ने आईसीएमआर और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान, पुणे के सहयोग से विकसित किया है। इस टीके को भारत सरकार ने क्लीनिकल परीक्षण प्रारूप में आपातकालीन उपयोग में लाए जाने की मंजूरी दी है।  

 राजस्थान: CM गहलोत ने किया ऐलान- वैक्सीनेशन के मामले में राज्य सबसे आगे

तीसरे चरण का परीक्षण
फ़िलहाल, कोवैक्सीन का तीसरे चरण का परीक्षण चल रहा है। इस टीके को भारत के औषधि नियामक द्वारा इस महीने की शुरूआत में आपात उपयोग की मंजूरी दिये जाने को लेकर विशेषज्ञों ने राय दी थी। कोवैक्सीन का नाम बीबीवी152 है। 

इस वैक्सीन को लेकर भारत बायोटेक द्वारा वित्तपोषित अध्ययन के लेखकों ने कहा है कि प्रथम चरण के परीक्षण के दौरान इस टीके का कोई गंभीर प्रतिकूल प्रभाव यानी साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिला है। इसी तरह के नतीजे, इससे पहले दिसंबर में प्रीपिंट सर्वर मेड-आर्काइव में भी प्रकाशित किये गये थे।   

5 महीने से कोरोना की जंग लड़ रही है ये महिला, डॉक्टर हुए हैरान, जाने क्या है मामला ?

लेकिन ये भी रहे हैं प्रभाव 
लोगों के बीच ऐसा कोई नया आंकड़ा जारी नहीं किया गया है, जो इसके सुरक्षित और कारगर होने के बारे में और अधिक जानकारी दे सकता हो। अध्ययन के लेखकों ने कहा है कि टीके के सभी प्रतिकूल प्रभाव हल्के या मध्यम स्तर के रहे हैं और ये प्रथम खुराक के बाद ही अक्सर देखे गये हैं।

एक प्रतिकूल प्रभाव का मामला सामने आया था लेकिन यह टीके से संबद्ध नहीं था।  कोवैक्सीन के सुरक्षित होने और इसकी प्रतिरक्षा क्षमता का आकलन करने के लिए इसका प्रथम चरण का परीक्षण देश के 11 अस्पतालों में किया गया।  परीक्षण में शामिल करने के लिए 18 से 55 साल उम्र के लोगों को उपयुक्त माना गया था।      

कोरोना से निपटने को तैयार देश! वैक्सीन लगवाने वालों की संख्या पहुंची 10 लाख पार

जुलाई में हुई थी जांच...
पिछले साल 13 जुलाई से 30 जुलाई के बीच 827 प्रतिभागियों की जांच की गई, जिनमें से 375 को शामिल किया गया। अध्ययन के लेखकों ने कहा है, ‘‘परीक्षण के नतीजों में बीबीवी152 के सुरक्षित होने और शरीर की प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने का पता चला। साथ ही, कोई गंभीर प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखने को मिला।’’ सबसे समान्य प्रतिकूल प्रभाव इंजेक्शन वाले स्थान पर दर्द और इसके बाद सिरदर्द, थकान तथा बुखार के रूप में देखने को मिला।

पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.