Monday, Aug 02, 2021
-->
indira hridayesh passes away uttarakhand sadan in delhi kmbsnt

उत्तराखंड की नेता विपक्ष इंदिरा हृदयेश का दिल्ली में हार्ट अटैक से निधन

  • Updated on 6/13/2021

देहरादून ब्यूरो/ संजय झा। उत्तराखंड  कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश की दिल्ली में तबियत बिगड़ने के बाद आज सुबह उत्तराखंड सदन में मृत्यु हो गई। वो शनिवार को दिल्ली में कांग्रेस संगठन की बैठक में शामिल होने गई थी। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव को लेकर शनिवार को प्रदेश प्रभारी देवेन्द्र यादव की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में उन्होंने हिस्सा भी लिया।  

बैठक के बाद वह रात्रि  विश्राम के लिये उत्तराखंड सदन में  गयीं। जहां रविवार की सुबह उनकी तबियत  खराब हो गई । जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। हृदय रोग को उनकी मौत का कारण माना जा रहा है। 

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्रदयेश की मृत्यु से कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है। क्योंकि वर्तमान में कांग्रेस के प्रथम पंक्ति के नेताओं में वह एक कद्दावर नेता के तौर पर पहचानी जाती थी।

पाबंदियों के साथ सीमित लोग ही कर सकेंगे हज यात्रा, पढ़ें क्या हैं सऊदी अरब के निर्देश

कुछ समय पहले ही कोरोना से ठीक हुई थी इंदिरा 
इंदिरा दिल्ली में कांग्रेस संगठन की बैठ में शामिल होने आईं थी। आज यानी रविवार सुबह को ही उनकी तबहीय अचानक से ज्यादा खराब हो गई। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां उपचार के दौरान उनका निधन हो गया। बता दें की कुछ समय पहले हीं वो कोरोना से ठीक हुई थी। इसके साथ ही उनकी हार्ट संबंदी सर्जरी भी हुई थी। उनके बेटे ये सूचना मिलते ही दिल्ली के लिए रवाना हो चुके हैं। उनके पार्थिव शरीर को उत्तराखंड ले जाने की तैयारी की जा रही है। 

भाजपा नेता व पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत समेत प्रदेश के तमाम नेताओं ने उन्हें श्रधान्जली दी है। शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल और कांग्रेस प्रवक्ता गरिमा दसोनी ने भी उन्हें श्रद्धान्जलि दी है।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शोक व्यक्त किया
मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने डॉ. इंदिरा हृदयेश जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री तीरथ रावत ने दिवंगत आत्मा की शांति व शोक संतप्त परिवार जनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि " स्व० इंदिरा हृदयेश जी से मेरा परिचय दशकों पुराना रहा है। उनसे सदा मुझे बड़ी बहन जैसी आत्मीयता मिली। विधानसभा में  जनहित के मुद्दे उठाने में वे सदा अग्रणी रहती थीं। मैं इस कठिन समय में उनके परिजनों व समर्थकों के प्रति अपनी सांत्वना व्यक्त करता हूं।"

 

Petrol Diesel Price: तेल के बढ़ते दामों के बीच आज कुछ राहत, जानें क्या है कीमत

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जताया दुख 
उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उनके निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि अभी-अभी कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री डॉक्टर जी के निधन का दुःखद समाचार मिलकर मन अत्यंत दुखी है। इन्दिरा बहिन जी ने अपने लम्बे राजनीतिक जीवन में कई पदों को सुशोभित किया और विधायिका के कार्य में पारंगत हासिल की। बहिन जी का जाना मेरे लिए एक व्यक्तिगत क्षति है।

मैं दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना करता हूँ और परमपिता परमेश्वर से विनती करता हूँ कि वो इन्दिरा बहिन जी की आत्मा को अपने श्री-चरणों में स्थान दें। दुख की इस कठिन घड़ी में मेरी संवेदनाएं सुमित एवं समस्त परिवार के साथ हैं। ॐ शान्ति शान्ति शान्ति।

बता दें कि इंदिरा 2012 के उत्तराखंड विधान सभा चुनाव में हल्द्वानी निर्वाचन क्षेत्र से चुनी गई थीं। वह 2012 से 2017 तक उत्तराखंड हरीश रावत सरकार के समय संसदीय कार्य, उच्च शिक्षा और योजना मंत्री रहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.