Saturday, Mar 23, 2019

ध्यान दें: औद्योगिक उत्पादन दर पर लगा ब्रेक, RBI देगा चुनाव से पहले ये फायदा!

  • Updated on 3/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा चुनाव से पहले औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि पर रोक लग गई है। ताजा आंकड़ों के अनुसार औघोगिक उत्पादन (IIP) की वृद्धि दर जनवरी महीने में धीमी पड़कर 1.7 प्रतिशत रह गई। आईआईपी के आंकड़े रिजर्व बैंक की 4 अप्रैल को आने वाली मौद्रिक समीक्षा से पहले जारी किए गए हैं।

ऐसे में अब माना जा रहा है कि इससे रिजर्व बैंक पर ब्याज दर में कटौती का दबाव बढ़ेगा। वहीं खुदरा महंगाई दर बढ़कर 4 महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गई है, लेकिन अब भी यह भारतीय रिजर्व बांक के औसत लक्ष्य से कम बनी हुई है। आरबीएल बैंक की अर्थशास्त्री रजनी ठाकुर के अनुसार मुख्य महंगाई दर बढ़कर 2.75 फीसदी पर पहुंची है जबकि औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर आश्चर्यजनक रूप से घटकर 1.7 फीसदी पर आ गई है।

#PNBScam : सियासी बवडंर के बाद नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए सक्रिय हुई ED

ऐसे में रिजर्व बैंक के पास अप्रैल की मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दरों में 0.25 प्रतिशत कटौती की गुंजाइश है। एक साल पहले यानी जनवरी 2018 में औद्यौगिक उत्पादन की वृद्धि दर 7.5 फीसदी रही थी। आधिकारिक आंकड़ों में मंगलवार को कहा गया है कि माह दर माह आधार पर भी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक आईआईपी समीक्षाधीन माह के दौरान दिसंबर 2018 की तुलना में घट गया है।

राकेश अस्थाना को लेकर क्रिश्चियन मिशेल ने अदालत में किया बड़ा दावा

दिसंबर में यह 2.60 फीसदी था। खाने पीने के दाम बढ़ने से फरवरी में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 2.57 फीसदी पर पहुंच गई। पिछले चार महीने में सबसे अधिक रही। इससे पहले अक्टूबर, 2018 में खुदरा महंगाई 3.38 फीसदी रही थी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.