Monday, Aug 15, 2022
-->
inflation in britain reached a record level of four decades, life became difficult

ब्रिटेन में चार दशक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची महंगाई दर, दूभर हुआ जीना

  • Updated on 6/25/2022

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। ब्रिटेन में महंगाई दर चार दशक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। इसके चलते लोगों का जीना दूभर हो गया है। भारत सहित दुनिया के तमाम देशों में इस वर्ष महंगाई की मार देखने को मिल रही है। विशेष रूप से यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद इसमें और तेजी आई है। इससे पहले अमरीका से भी रिकॉर्ड महंगाई की खबरें आ रही हैं।

वीरवार को जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार ब्रिटेन में महंगाई की दर 9.1 फीसद पहुंच गई है। बैंक ऑफ इंग्लैंड के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने कहा कि यह पहले से उम्मीद थी कि महंगाई की दर इस वित्तीय वर्ष के अंत तक दो अंकों में पहुंच जाएगी। उन्होंने कहा कि साल के अंत तक महंगाई 11 फीसद हो सकती है। उसके बाद वर्ष 2024 तक इसमें दो फीसद की गिरावट संभव है।

तेजी से बढ़ती महंगाई की दर ने ब्रिटिश अर्थव्यवस्था को गहरे तक प्रभाव डाल रही है। इससे लोगों को जीना मुहाल हो रहा है। महंगाई का असर विशेष रूप से पेट्रोल डीजल, खाने पीने की बस्तुओं पर सबसे अधिक दिखाई दे रहा है। ब्रिटेन में महंगाई की मार को हम इन चार तरह से समझ सकते हैं।

पूरे साल महंगाई की दर
ब्रिटेन में यद्यपि महंगाई में वृद्धि वर्ष 2021 में ही शुरु हो गई थी लेकिन 2022 में यह काफी तेजी से ऊंचाई पर गई। आंकड़ों के अनुसार इस साल जनवरी में महंगाई दर 5.5 फीसद थी, फरवरी में 6.2 फीसद तथा अप्रैल में यह 9 फीसद पर पहुंच गई। इसके बाद मई 2022 में यह रिकार्ड तेजी के साथ बढ़कर 9.1 फीसद पर पहुंच गई।

साल भार के अंदर महंगाई दर में इतना अधिक अंतर एक रिकार्ड है। उल्लेखनीय है कि 2015 में ब्रिटेन में महंगाई दर निगेटिव तथा शून्य फीसद भी रही है। गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार यह स्थिति वैश्विक स्तर पर वस्तुओं की कीमतों में भारी गिरावट के कारण के कारण हुई थी। 

वस्तुओं की कीमतों पर असर

राष्ट्रीय सांख्यिकी दफ्तर के आंकड़ों के अनुसार ब्रिटेन में मई महीने में खाने पीने की चीजों के कीमतों में बेतहाशा वृद्धि हुई है। पिछले साल की तुलना में पेट्रोल तथा डीजल की कीमतों में क्रमश: 30.4 तथा 37.2 फीसद की वृद्धि हुई है। वहीं दूसरी ओर साफ्टवेयर, कम्प्यूटर तथा मोबाइल फोन जैसे इलेक्ट्रानिक उपकरणों के दामों में काफी गिरावट देखने को मिल रही है।

वेतन एवं मजदूरी

एक ओर जहां महंगाई आसमान छू रही है ब्रिटेन में लोगों के वेतन एवं मजदूरी में भारी गिरावट देखी जा रही है। आंकड़ों के अनुसार साप्ताहिक वेतन दर में सालाना वृद्धि  अप्रैल 2022 में सिर्फ 4.5 फीसद थी। गार्जियन अखबार की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2001 के बाद यह रिकार्ड सबसे कम वृद्धि हुई है। 

मकानों की कीमत

 इस साल अप्रैल में ब्रिटेन में मकानों की कीमत में 12.4 फीसद की औसत वृद्धि हुई है। यहां औसतन जो मकान 28100 पौंड में बिक रहे हैं वह पिछले साल की तुलना में 31000 पौंड अधिक है। ब्रिटेन में मकानों की सालाना कीमत 2020 के मध्य में औसत वृद्धि 1.7 फीसद थी जबकि वर्तमान में यह वहीं जून 2021 में यह 13.3 फीसद हो गई। ब्रिटेन में मकानों की कीमत में आई तेजी के लिए केवल महंगाई ही जिम्मेदार नहीं है। सरकार की ओर से टैक्स की दरों में किए गए बदलाव के कारण भी मकानों की कीमत बढ़ी है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.