Monday, Jun 27, 2022
-->
instructions ensure supply energy establishments strike of trade unions rkdsnt

ट्रेड यूनियनों की हड़ताल के मद्देनजर ऊर्जा प्रतिष्ठानों को सप्लाई सुनिश्चित करने का निर्देश

  • Updated on 3/27/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ट्रेड यूनियनों द्वारा आहूत दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल से पहले विद्युत मंत्रालय ने सरकार द्वारा संचालित सभी प्रतिष्ठानों और अन्य एजेंसियों को हाई अलर्ट पर रहने, निरंतर बिजली आपूर्ति रखने तथा राष्ट्रीय ग्रिड की स्थिरता सुनिश्चित करने को कहा है। केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के संयुक्त मंच ने विभिन्न क्षेत्रों के कामगारों को प्रभावित करने वाली केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ 28 और 29 मार्च को दो दिन की हड़ताल का आह्वान किया है। 

पेट्रोल, डीजल के दाम फिर बढ़े, 6 दिन में पांचवी बार कीमत में बढ़ोतरी

संयुक्त मंच ने एक बयान में कहा कि रोडवेज, परिवहन और बिजली विभागों के कर्मियों ने हड़ताल में शामिल होने का फैसला किया है। हालांकि हरियाणा और चंडीगढ़ में आवश्यक सेवा अनुरक्षण कानून (एस्मा) लागू करने की चेतावनी दी गई है। मंच ने बताया कि बैंकिंग और बीमा समेत वित्तीय क्षेत्र के कर्मी भी हड़ताल में शामिल हो रहे हैं। 

‘‘मन की बात’’ में पीएम मोदी बोले- लक्ष्य तक पहुंचने का साहस भी दिखाता है ‘नया भारत’

विद्युत मंत्रालय ने परामर्श जारी करके कहा, ‘‘सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन्स (सीटू) ने 28 मार्च को सुबह छह बजे से 30 मार्च को सुबह छह बजे तक राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है।’’ उसने कहा कि बिजली उपभोक्ताओं के हित में सभी ऊर्जा प्रतिष्ठानों को सलाह दी जाती है कि वे इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड का दिन-रात संचालन सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाएं।’’ 

मध्य प्रदेश के शहरों में शुरू होगी गोबर-धन योजना : शिवराज सिंह चौहान 

 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.