Sunday, Oct 17, 2021
-->
instructions-to-investigate-complaint-against-actress-payal-rohatgi-tweet-rkdsnt

अभिनेत्री पायल रोहतगी के ट्वीट के खिलाफ शिकायत की जांच करने का निर्देश 

  • Updated on 4/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। मुंबई की एक अदालत ने अभिनेत्री पायल रोहतगी के खिलाफ उस शिकायत की जांच करने का पुलिस को आदेश दिया है, जिसमें आरोप लगाया है कि उन्होंने अपने ट्वीट के माध्यम से एक विशेष समुदाय के प्रति घृणा फैलायी। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट, अंधेरी, भागवत जिरपे ने 30 मार्च को अभिनेत्री के खिलाफ दंड प्रक्रिया संहिता(सीआरपीसी) की धारा 202 के तहत जांच का आदेश दिया और उसकी प्रति सोमवार को उपलब्ध हुई। 

रिलायंस जियो ने स्पेक्ट्रम खरीदने को लेकर एयरटेल से किया करार

सीआरपीसी की धारा 202 के तहत जांच का आदेश यह पता लगाने के लिए दिया जाता है कि क्या प्रथम ²ष्टया कोई मामला बनता है और क्या आरोपी के खिलाफ कार्यवाही के लिए पर्याप्त आधार है। मजिस्ट्रेट ने अपने आदेश में कहा, ‘‘प्रत्येक समुदाय को अपना धर्म का पालन का अधिकार है। किसी को भी किसी भी अन्य समुदाय के रिवाजों का मजाक बनाने का कोई अधिकार नहीं है।’’ 

बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में ठाकरे सरकार

शिकायतकर्ता, वकील अली कासिफ खान देशमुख ने पिछले साल दिसंबर में तब मजिस्ट्रेट का रुख किया था जब अंबोली पुलिस थाना रोहतगी के खिलाफ जून, 2020 में उनके कथित सांप्रदायिक ट्वीट को लेकर कार्रवाई करने में विफल रहा था।     वकील ने अपनी शिकायत में कहा था कि अभिनेत्री के ट्वीट एक विशेष समुदाय के लोगों के लिए Þअत्यधिक अपमानजनकÞ थे और उनकी पोस्ट ने उसकी महिलाओं को बदनाम किया। 

पीएम मोदी ने ममता की ‘गालियों’ को बनाया बंगाल में चुनावी हथियार 

 

असम में एक बूथ पर वोटर सूची में सिर्फ 90 नाम, वोट पड़े 171, चुनाव आयोग सकते में

अदालत ने पाया कि प्रथम दृष्टया, ट्वीट समुदाय और उसकी महिलाओं का अनादर करते हैं और आरोपी के खिलाफ आगे बढऩे के लिए ट्वीट की एक तकनीकी जांच आवश्यक है। अदालत ने पुलिस से 30 अप्रैल को जांच रिपोर्ट देने को कहा है। 

राफेल सौदे में भ्रष्ट्राचार के आरोपों को लेकर माकपा ने खोला मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा

 

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

comments

.
.
.
.
.