Sunday, Mar 24, 2019

भारत में इस राज्य के लोग खरीदते हैं सबसे ज्यादा कंडोम, जानकर हो जाएंगे हैरान

  • Updated on 2/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत में जब भी लोग सेक्स ऐजुकेशन की बात करते है तो सबसे पहले कहा जाता है जरा धीरे से बोलो कोई सुन लेगा। हालांकि लोगों की सोच इस विषय पर काफी बदली भी है। पहले के मुकाबले अब लोगों की सोच ज्यादा परिपक्क हुई है। हाल ही में एक सर्वे किया गया जिसमें काफी रोचक बातें सामने आई है। 

भारत के किस राज्य में खरीदें जाते है कंडोम 

सर्वे में सामने आया है कि आज का युवा वर्ग सेक्स एजुकेशन को लेकर काफी सचेत हो गया है। अब लोग कोनडम का इस्तेमाल करने से हिचकिचाते नहीं है। देश के लगभग हर राज्य के युवा इसका इस्तेमाल और इसका महत्व समझने लगे है। 

केरल में बिकते है सबसे ज्यादा कंडोम

सर्वे में सामने आया है कि पूरे देश में सबसे ज्यादा कोंडम केरल में खरीदें जाते है।  

बिहार में खरीदे जाते है मर्दानी बढ़ाने वाले उत्पाद

स्टोर के सीईओ समीर सरैया के मुताबिक यह रिपोर्ट 30 महीनों के आतंरिक ट्रैफिक, विक्रय आंकड़ों, ग्राहकों के फीडबैक और कुछ सर्वे पर आधारित है। शोध में यह भी पाया गया कि बिहार से पुरुषों के कामोत्तेजना-वर्धक उत्पादों की 23 प्रतिशत बिक्री होती है और केरल 76 प्रतिशत के साथ कंडोम की बिक्री में भी आगे है।

कुछ ऐसी है कुल बिक्री 

जहां तक कुल बिक्री का सवाल है, अध्ययन में पाया गया कि 10 प्रतिशत बिक्री महिलाओं की हाइजीन और कामोत्तेजना के उत्पादों की, 13 प्रतिशत खाने वाले उत्पादों की, 17 प्रतिशत पुरुषों के इस वर्ग के उत्पादों की, 15 प्रतिशत सेक्सी लिंगरी और आठ प्रतिशत पुरुषों के अधोवस्त्रों की होती है।

सबसे ज्याादा इस महीने में होती ही बिक्री

सर्वे में सामने आया है कि भारतीय सबसे ज्यादा इस तरह के प्रोडक्ट फरवरी में खरीदते है क्योंकि ये वैलनटाइन मंथ होता है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट में दावा 

स्वास्थ्य मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 8 सालों के दौरान देश में कंडोम के इस्तेमाल में करीब 52 प्रतिशत की कमी आई है। वहीं नसबंदी कराने के मामले 75 प्रतिशत तक कम हुए हैं।

8 सालों में दो गुनी हुई अबॉर्शन्स की संख्या 
पारंपरिक गर्भनिरोधकों के इस्तेमाल में आयी कमी की वजह से सिर्फ इमरजेंसी पिल्स ही नहीं बल्कि पिछले 8 सालों में देशभर में अबॉर्शन्स की संख्या भी दोगुनी हो गई है। बहुत से मामलों में तो महिलाएं अबॉर्शन के लिए डॉक्टर के पास भी नहीं जातीं और खुद ही दवाइयां खाकर अनचाहे गर्भ को खत्म करने की कोशिश करती हैं जो बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.