Sunday, Mar 24, 2019

#KissDay : 5 तरह की किस बनाती है रिश्ते को खास, ये रहे इनके मतलब

  • Updated on 2/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  आज International Kiss Day है और दुनिया भर में किस के तरीकों और उनसे होने वाले फायदों के लेकर कई तरह के शोध होते रहते हैं। कई मनोवैज्ञानिक शोध के आधार पर किस की तरीके की पीछे होने वाली असली भावना को समझा गया। हम आपको बताते हैं कि अगर कोई आपको माथे पर किस करें या फिर हाथ को चूम ले तो इसका क्या मतलब होता है।

फोरहेड किस

अगर कोई आपके माथे यानी फोरहेड पर किस करे तो आप उस इंसान के लिए खास हैं और इसके कई मतलब हो सकते हैं। इसका सीधा मतलब होता है कि सामने वाला ना केवल आपको चाहते है बल्कि आपकी इज्जत भी करता है। ये भी साफ संकेत मिलते है सामने किस करने वाला व्यक्ति आपके साथ रिश्ते की शुरुआत करने और उसे पसंद करने की तरफ बढ़ रहा है। ये किसी पार्टनर, दोस्तों, पैरैंट्स किसी के बीच भी हो सकती है। 

चीक्स किस

जब किसी का किसी पर क्रश होता है तो वो उस इंसान को चीक्स यानी गालों पर किस करता है। अगर कोई आपको गालों पर किस करें तो इसका सीधा मतलब है कि वो आपको क्यूट और प्यार समझता है इसलिए इसका इजहार गालों पर किस करके देता है। ये खासतौर से दोस्तों, पार्टनर, पैरेंट्स के बीच देखने को मिलती है। 

किसिंग हैड्स

हाथों पर किस करने का कुछ खास मतलब होता है। इससे ये समझा जा सकता है कि सामने वाला आपके ओर आकर्षित है और आपको डेट करना चाहता है। आपके साथ अपने रिश्ते को और गहरा करना चाहता है। कई बार बड़े बुजुर्गों या फिर सम्मान के तौर पर भी हाथों पर किस किया जाता है। 

लिप किस

अपना प्यार खुले तौर पर जाहिर करनी और एक तरह से बिना शकशूबे के उसका इजहार करने के लिए ही होंठों पर किस किया जाता है। लेकिन होठों पर किस सिर्फ रोमांटिक पार्टनर्स की बीच ही नहीं बल्कि कई बार पेरेंट्स के बीच पर दी जाती है। खासतौर से कुछ देशों में पेरेंट्स भी अपने बच्चों को होंठो पर किस देते हैं। 

फ्रेंक किस

फ्रेंच किस खासतौर से पार्टनर्स के बीच ही शेयर किया जाता है। ये आकर्षण और इंटेमेसी को दर्शाता है। इसमें प्यार के साथ-साथ आकर्षण और लगाव सब कुछ एक साथ देखा जाता है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.