Saturday, Jan 25, 2020
international shooter vartika singh hanging of nirbhaya case convicts should be done by me

निर्भया के दोषियों को फांसी देने का काम मुझे दिया जाए- अंतर्राष्ट्रीय शूटर वर्तिका सिंह

  • Updated on 12/15/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अंतर्राष्ट्रीय शूटर (International shooter) वर्तिका सिंह (Vartika Singh) ने मांग की है कि निर्भया (Nirbhaya case) के दोषियों को फांसी (Hanging) मुझे देने की अनुमति दी जाए। उनका कहना है कि यह पूरे देश में एक संदेश देगा कि एक महिला भी फांसी का आयोजन कर सकती है। मैं चाहती हूं कि महिला कलाकार, सांसद मेरा समर्थन करें। मुझे उम्मीद है कि इससे समाज में बदलाव आएगा।

निर्भया केसः पटियाला हाउस कोर्ट में दोषियों को जल्द फांसी की याचिका पर सुनवाई टली

राष्ट्रपति पदक से भी सम्मानित हैं वर्तिका
बता दें कि वर्तिका सिंह उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के रायचंद्रपुर गांव की रहने वाली हैं। दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज फॉर वीमेन में वर्तिका साल 2013-14 तक छात्रसंघ अध्यक्ष रह चुकी हैं। वर्तिका ने जर्मनी में 2012 में और सिंगापुर में 2013 में आयोजित शूटिंग प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। इतना ही नहीं वो राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर होने वाली शूटिंग प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं। वर्तिका को साल 2013 में राष्ट्रपति पदक से भी सम्मानित किया गया था।

निर्भया की मां ने स्वाति मालिवाल से की मुलाकात, की अनशन तोड़ने की अपील

निर्भया मामले कि सुनवाई 18 को
गौरतलब है कि निर्भया (Nirbhaya) के दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) द्वारा स्वीकार कर लिए जाने के बाद अब दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) ने दोषियों को डेथ वारंट जारी करने की मांग करने वाली वाली याचिका पर भी सुनवाई टाल दी है। इस मामले में अगली सुनवाई 18 दिसंबर को होगी। 

पटियाला हाउस कोर्ट का कहना है कि हमें पता चला है कि सुप्रीम कोर्ट ने दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका स्वीकार कर ली है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट 17 दिसंबर को सुनवाई करेगा। इसके बाद ही पटियाला हाउस कोर्ट 18 दिसंबर को डेथ वारंट मामले की सुनवाई को आगे बढ़ाएगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.