Tuesday, Jun 18, 2019

INTERVIEW 1: चुनाव परिणाम पर बोले अमित शाह- हमारी सीटें भी बढ़ेंगी और जीत का मार्जिन भी

  • Updated on 5/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा चुनाव 2019 के छह चरणों के बाद भारतीय जनता पार्टी जीत के लिए आश्वस्त है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एन.डी.ए. ही दोबारा सता में आएगी। गांधी परिवार पर हमने कोई आरोप नहीं लगाए हैं पर उनके कार्यकाल दौरान जो गलत कार्य हुए उन पर बात तो करेंगे ही। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पंजाब केसरी ग्रुप के साथ खास बातचीत में कहा कि 2022 में हम आजादी का 75वां साल मनाने जा रहे हैं और हमने 75 संकल्प लिए हैं। देश को 75 चीजें हम 75 साल की आजादी होने से पहले दे देंगे। पेश हैं मुख्य अंश...

ज्यादातर सीटों पर मतदान हो चुका है, आपका आकलन क्या है?

देखिए, चुनाव के नतीजे आने के बाद आप एनालसिस कर लीजिएगा। हमारी सीटें भी बढ़ेंगी और जीत का मार्जिन भी। भाजपा का पार्लियामैंट में एरिया भी बहुत बढऩे जा रहा है। लिहाजा, तीनों दृष्टि से चुनाव में यशस्वी होकर बाहर आएंगे और 2014 से अच्छी स्थिति होगी। भाजपा की अपनी मैजॉरिटी 282 से ज्यादा होगी। मैं 300 से ज्यादा लोकसभा क्षेत्र में गया हूं और हर रोज वर्करों का फीडबैक भी आ रहा है। मेरी बात मानकर चलना, 282 से ज्यादा सीटें ही होंगी, कम नहीं होंगी।

उत्तर प्रदेश में भाजपा की क्या स्थिति रहेगी?

राजनेता अभी भी 1980 के दशक में जी रहे हैं। अब वो समय चला गया है कि दो नेता दिल्ली के ट्रोल में हाथ मिलाएंगे तो वोटर इनके पीछे चला जाएगा। दो नेताओं के हाथ मिलाने से वोटर पीछे नहीं जाता है। वोटर अपना मत स्वत: तय करता है। यू.पी. में भी हमारी स्थिति बहुत बेहतर होगी।

यू.पी. में गठबंधन को आप चैंलेज के तौर पर देख रहे हैं क्या?

चैलेंज मैं तो मानता ही नहीं। विधानसभा चुनाव के लिए भी यू.पी. के दो लड़के इक_ा हुए थे। कांग्रेस और सपा के वोटबैंक का योग भी लोगों ने बना दिया था। बता भी दिया था कि 270 विधानसभा सीटें सपा और कांग्रेस जीतेगी। परिणाम क्या आया, भाजपा की 325 सीटें आईं। अगर कास्ट अप्लाई करती तो ये असंभव था। यू.पी. में हमारी स्थिति बहुत अच्छी है। 72 सीटों का रिकार्ड हमारा कायम रहेगा।

1984 सिख दंगों को लेकर सैम पित्रोदा ने विवादास्पद बयान दिया है, हालांकि बाद में माफी भी मांग ली है। क्या इसका चुनाव पर असर पड़ेगा?

देखिए माफी मांगने से क्या होता है। इनके मन की बात बाहर आई है। मैं सैम पित्रोदा और राहुल गांधी को अलग करके नहीं देखता हूं। इनके गुरु हैं, सारी चीजें इनसे सीखते हैं। और इनके मन में पड़ा हुआ है कि हुआ तो हुआ...। वो बात बाहर आ गई है। अब शब्दों की माफी से क्या होता है?

पश्चिम बंगाल में पूरा माहौल बदल गया है। हिंसा भी हो रही है। क्या भाजपा को सीटें मिलेंगी?

बिल्कुल, सीटें मिलेंगी। जो माहौल दिख रहा है, वह भाजपा के हक में है। वहां पंचायत चुनाव के परिणाम देख लीजिए। हम दो नंबर की पार्टी बन चुके हैं। बंगाल में सीटें बढ़ेंगी और वोट प्रतिशत में भी इजाफा होगा। जनता चाहती है कि विकास हो, घुसपैठ रुके, घुसपैठियों को निकाला जाए। वोटबैंक की सियासत के कारण बंगाल के कल्चर को जैसे दबाया जा रहा है, उसके खिलाफ भी लोगों में गुस्सा है। वहां दुर्गा पूजा नहीं कर सकते, सरस्वती पूजा नहीं कर सकते, जय श्रीराम नहीं बोल सकते...क्यों? यह सवाल बंगाल के मतदाता पूछ रहे हैं।

ममता सरकार ने आरोपों का खंडन किया है। वो पूजा के लिए पैसा भी देती हैं?

अरे, ये तो पंचायत चुनाव में हारने के बाद किया होगा। आप चार साल की सरकार का रिकार्ड पलटकर देख लीजिए, भाजपा कार्यकर्ताओं की पी.आई.एल. पड़ी है। कोर्ट के आर्डर पर परमिशन मिली। ममता दीदी अगर ऐसा कह रही हैं तो वो झूठ बोल रही हैं।

उड़ीसा और केरल में भाजपा की क्या स्थिति होगी?

दोनों राज्यों में भाजपा के लिए अच्छा होगा। उड़ीसा में हम 13 से 15 लोकसभा सीटें जीतेंगे। हमारा प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है, जबकि केरल में खाता खुलने जा रहा है। 2 सीटों पर हमारी जीत सुनिश्चित मानी जा रही है। एक अन्य सीट पर हम टक्कर दे रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.