Saturday, Apr 04, 2020
INX Media Case Chidambaram pleads for bail in High Court may be hearing today

INX Media Case: चिदंबरम ने हाईकोर्ट में लगाई जमानत की गुहार, आज हो सकती है सुनवाई

  • Updated on 9/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) INX मीडिया मामले (INX Media Case) में जमानत (Bail) के लिए कोर्ट को चक्कर लगा रहे हैं। दरअसल INX मीडिया केस में तिहाड़ जेल में कैद चिदंबरम ने बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) का दरवाजा खटखटाया है। चिदंबरम का दावा है कि उनके खिलाफ कार्रवाई गलतसोच और राजनीतिक बदले (Political Revenge) को लेकर की गई है। 

उत्तराखंड सरकार ने 50% कम की चालान की रकम, मोटर व्हीकल एक्ट में किया बदलाव

चिदंबरम ने निचली अदालत के आदेश को दी है चुनौती

चिदंबरम ने हाईकोर्ट में एक और याचिका दायर कर 5 सितंबर के निचली अदालत के उस आदेश को चुनौती दी है, जिसके तहत उन्हें मामले में 19 सितंबर तक 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया था। राज्यसभा सदस्य चिदंबरम ने इस आदेश को पूरी तरह से 'बिना कोई कारण का' बताया है। दोनों याचिकाओँ पर सुनवाई आज हो सकती है।

कश्मीर मुद्दे पर पाक ने फिर आलापा पुराना राग, कहा- थर्ड पार्टी से ही होगा भारत-पाक सुलह

CBI ने चिदंबरम को 21 अगस्त को किया था गिरफ्तार

बता दें कि चिदंबरम को CBI ने 21 अगस्त को उनके घर से गिरफ्तार किया था। उन्होंने बिना निचली अदालत का रुख किए जमानत के लिए सीधे सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में इसके लिए याचिका दायर की है। चिदंबरम ने जमानत की गुहार लगाते हुए कहा है कि वो कानून का पालन करने वाले नागरिक हैं। समाज से वह गहरा ताल्लुक रखते हैं और वो उन्हें राहत दिए जाने के दौरान हाईकोर्ट के सभी शर्तों का पालन करेंगे। 

दिल्ली: बुराड़ी में ऑनलाइन सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, दो लोग गिरफ्तार

'केंद्र सरकार के इशारे पर काम कर रही है जांच एजेंसी' 

चिदंबरम ने आगे कहा कि जांच एजेंसी केंद्र सरकार के इशारे पर काम कर रही है जो उनकी बेदाग छवि को धूमिल करना चाहती है। उन्होंने कहा कि निचली अदालत के न्यायिक हिरासत के आदेश को गौर से पढ़ने पर ये साफ होता है कि ये उसी तरह से जारी किया जैसे सामान्यतया किया जाता है और इस बारे में ध्यान नहीं रखा गया कि इसमें व्यक्ति की स्वतंत्रता शामिल है।

comments

.
.
.
.
.