Monday, Sep 27, 2021
-->
irfan pathan say corona lockdown opportunity increase prayers ramadan mubarak month rkdsnt

इरफान बोले- लॉकडाउन ने रमजान महीने में दिया इबादतों में इजाफा करने का मौका

  • Updated on 4/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना लॉकडाउन के बीच मुस्लिम समाज के लिए रमजान का माह शुरू हो गया है। रमजान के महीने में दुनिया भर में मुसलमान रोजा रखकर खुदा की इबादत करते हैं। लेकिन, लॉकडाउन को लेकर मुस्लिम समाज को तरह-तरह की नसीहतें भी दी जा रही हैं। इसी कड़ी में टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान ने रमजान की मुबारक के साथ खास संदेश भी दिया है। 

रमजान के मुबारक महीने में शायर मुनव्वर राणा ने मौलवियों दी खास सलाह

इरफान पठान ने अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो शेयर कर अपने जज्बातों को शेयर किया है। उन्होंने इसमें लोगों को अपने घरों में ही नमाज अता करने और कुरान को शिद्दत से पढ़ने की गुजारिश की है। इरफान का कहना है कि कोरोना लॉकडाउन खुदा की इबादद करने का सुनहरा मौका है। 

कोरोना लॉकडाउन: विपक्ष की आलोचनाओं के बाद अब मजदूरों को वापस लाएगी योगी सरकार

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने शिवराज सिंह के तीनों कार्यकाल को ठहराया 'पनौती', गिनाए कारण

पूर्व क्रिकेटर अपने वीडियो के जरिए कहते हैं, 'कुछ लोग मान रहे हैं कि रमजान का ये माह बेहद मुश्किल गुजरने वाला है। खुदा की तरफ  से इम्तिहान लिए जा सकते हैं। तो मैं कहूंगा कि ये इम्तिहान नहीं है, बल्कि मौका है। मौका अपनी इबादतों में इजाफा करने का।'

महंगाई भत्ते पर रोक लगाने के खिलाफ सरकार कर्मचारियों ने बुलंद की आवाज

इफरान आगे कहते हैं, 'बहुत सी बार काम के साथ रोजा रखते हैं और इबादतें पूरी नहीं हो पातीं हैं, इस बार लॉक डाउन में हम घर में रहेंगे, तो हमारे पास समय बहुत होगा इबादतें करने के लिए। ज्यादा से ज्यादा नमाज और कुरान शरीफ पढ़ने का, हदीसों पर अमल करने का। अच्छे काम करने और अपने खामियों को दूर करने का।'

कोरोना संक्रमण : क्या पीएम केयर्स फंड का ऑडिट नहीं करेगी CAG!

इरफान ने कहा कि रोजे का सबसे बड़ा पहलू भूखा रहना नहीं होता, बल्कि अपनी बुराइयों अपनी खामियों पर काबू रखना है। घर पर रहेंगे तो ये सब बेहतर तरीके से कर पाएंगे। मुझे नहीं लगता कि इससे बेहतर रमजान न कभी आया है और न कभी आएगा। अगर हम इस सोच के साथ रोजा रखेंगे तो ये रमजान का महीना बहुत ही खूबसूरत तरीके से गुजरेगा।'

प्रियंका गांधी ने कुछ मजदूरों को वापस लाने की पहल पर योगी सरकार को दिया साधुवाद

इरफान ने इससे पहले भी लोगों से लॉक डाउन में घर में रहने की गुजारिश की थी। उन्होंने कहा था कि यह नहीं सोचिए मत कि मस्जिद से जाने से रोका जा रहा है। बल्कि यह मानिए कि हर घर को ही मस्जिद बनाया जा रहा है। बता दें कि सोशल मीडिया पर मुस्लिम समाज के लिए संदेश वायरल हो रहे हैं कि कोई मौका नहीं देना, नहीं तो वे अपनी नाकामियों का ठीकरा आप पर फोड़ देंगे। 

पीएम केयर्स फंड को लेकर यशवंत सिन्हा बोले- अब भगवान ही मालिक है

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.