Friday, Feb 03, 2023
-->
is-akshay-kumar-going-to-lose-his-national-award-due-to-canadian-passport-issue

कनाडाई पासपोर्ट के पेंच में फंसे अक्षय, नेशनल अवॉर्ड पर उठे सवाल

  • Updated on 5/8/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चुनावी माहौल में अक्षय कुमार (akshay kumar) लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं। पहले पीएम मोदी के साथ नॉन पॉलिटिकल इंटरव्यू को लेकर फिर अक्षय का कनाडाई मामला। अक्षय को लेकर विवाद कम होने के बजाय तूल पकड़ता जा रहा है।

दरअसल, 29 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के लिए चौथे चरण की वोटिंग हुई, जहां 9 राज्यों की 71 लोकसभा सीटों पर मतदान किया गया। तो वहीं महाराष्ट्र की 17 लोकसभा सीटों पर वोटिंग हुई। जिसमें बॉलावुड के सभी सितारों ने वोट दिया लेकिन अक्षय वोट नहीं पाए।

Navodayatimes

बता दें कि अक्षय के पास भारत की नागरिकता नहीं है, उनके पास कनेडियन पासपोर्ट है। जिस वजह से वो भारत में वोट नहीं दे सकते। वैसे इस लिस्ट में कैटरीना कैफ (katrina kaif) , जैकलीन फर्नांडिस (jacqueline fernandez), इमरान खान (imran khan) और नरगिस फाखरी (नरगीस फाखरी) भी शामिल हैं।

दीपिका पादुकोण ने #MetGala2019 से आफ्टर पार्टी लुक की झलकियां की शेयर!

वोटिंग के बाद अक्षय कुमार ने खुद ट्वीट करके बताया कि उनके पास कनाडा का पासपोर्ट है, जिस वजह से वो वोट नहीं दे पाए। उनके इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर बवाल मच गया।

क्या है मुद्दा

मुद्दा ये है कि क्या कोई विदेशी नागरिक भी भारत का नेशनल अवॉर्ड जीत सकता है? भारत का राष्ट्रीय पुरस्कार उसे कैसे मिल सकता है जो भारत का नागरिक ही नहीं है।

अक्षय को ही क्यों दिया गया राष्ट्रीय पुरस्कार

2016 में अक्षय को फिल्म 'रुस्तम' के लिए बेस्ट एक्टर का नेशनल अवॉर्ड दिया गया था। मामला गर्माया इस बात पर कि उसी दौरान अक्षय को टक्कर देने वाले मनोज बाजपेयी थे। मनोज को फिल्म 'अलीगढ़' के लिए इस अवॉर्ड का सबसे दमदार दावेदार माना गया था। इसके अलावा दक्षिण भारत की फिल्म 'कमत्तीपड़म' में विनायकन भी इस टक्कर में शामिल थे। लेकिन अक्षय ने दोनों को पीछे छोड़ दिया।

फिल्म भारत का अगला गाना 'ऐथे आ' 9 मई को होगा रिलीज

सोशल मीडिया पर बवाल

अब सोशल मीडिया पर क्रिटिक्स ट्वीट कर रहे हैं। एक सीनियर फिल्म क्रिटिक ने ट्वीट किया- नेशनल फिल्म अवॉर्ड्स में फर्जी राष्ट्रवाद के चलते टैलेंट की बलि चढ़ा दी गई है। डायरेक्टर प्रियदर्शन उसी ज्यूरी के मेंबर थे जिस ज्यूरी ने अक्षय  का नाम अवॉर्ड के लिए फाइनल किया था। खबरें ये थीं कि प्रियदर्शन के अक्षय से करीबी रिश्ते हैं इसलिए अक्षय का पलड़ा भारी रहा।

अब इस मुद्दे पर 'अलीगढ़' फिल्म से जुड़े सीनियर एडिटर अपूर्व असरानी भी बोल पड़े। उन्होंने ट्वीट किया- ये बहुत बड़ा सवाल है। क्या उसे भारत का नेशनल अवॉर्ड मिल सकता है,जो यहां का नागरिक ही नहीं..?  क्या ज्यूरी या मिनिस्ट्री ने अक्षय के मामले में गलती की थी और क्या अब इस गलती को सुधारने की गुंजाइश है?

इसके बाद शाहरुख खान की फिल्म 'रईस' का डायरेक्शन करने वाले राहुल ढोलकिया ने अक्षय के बचाव में आकर ट्वीट किया साथ ही नेशनल ऑफ फिल्म फेस्टिवल्स के नियमों का एक स्क्रीनशॉट भी शेयर किया- राहुल के पोस्ट से पता चला कि उस ऑर्गनाइजेशन के नियम अनुसार 'विदेशी मूल के फिल्म व्यवसायी और टेक्निशियन्स भी भारत का नेशनल फिल्म अवॉर्ड जीत सकते है।'

राहुल के ट्वीट से साफ हो गया कि अक्षय से नेशनल अवॉर्ड वापस नहीं लिया जाएगा। अब देखते हैं ये मामला यहीं थम जाएगा या अभी तूल पकड़ेगा।

बता दें कि हाल ही में अक्षय कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का इंटरव्यू लिया था। जिसके बाद से वो हर तरफ छा गए। अक्षय पहले ऐसे अभिनेता हैं जिन्होंने किसी प्रधानमंत्री का इंटरव्यू लिया है। इस दौरान अक्षय ने जितने मजेदार सवाल पूछे उतने ही मजेदार जवाब पीएम मोदी ने दिए थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.